एमआईटी के भारतीय-अमेरिकी छात्र ने जीता इनजेन्यूटी अवार्ड

  • एमआईटी के भारतीय-अमेरिकी छात्र ने जीता इनजेन्यूटी अवार्ड
You Are HereInternational
Tuesday, December 03, 2013-3:16 PM

वाशिंगटन: भारतीय अमेरिकी किशोर सौमिल बंदोपाध्याय को नैनो तकनीक के क्षेत्र में अनुसंधान के लिए प्रतिष्ठित इन्जेन्यूटी अवार्ड के लिए चुना गया है। एमआईटी का छात्र बंदोपाध्याय उन 10 लोगों में शामिल है, जिन्हें अमेरिकन इनजेन्यूटी पुरस्कार के लिए चुना गया है।

बंदोपाध्याय (18) को एक ऐसा अनूठा एवं संवेदनशील इंफ्रारेड डिटेक्टर विकसित करने के क्षेत्र में काम करने के लिए यह पुरस्कार मिला है, जिसके सस्ते होने का दावा किया जा रहा है तथा वैज्ञानिक, सैन्य एवं असैन्य कार्यों में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

स्मिथसोनियन मैगजीन ने एक बयान में कहा कि इस यंत्र ने पहले ही अमेरिकी सेना का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर लिया है। पत्रिका ने कहा कि बंदोपध्याय एक ऐसे अनूठे इंफ्रारेड डिटेक्टर पर काम कर रहा है, जो कार दुर्घटनाओं की दर को कम सकता है।

दरअसल इस डिटेक्टर की मदद से कोहरे या अंधेरे में भी वाहन एक दूसरे की मौजूदगी का अहसास कर पाएंगे। चांदी के डाक टिकट की तरह दिखने वाला यह नैनो आकार के यंत्र छुपी हुई बारूदी सुरंगों का पता लगाने और ग्लोबल वार्मिंग पर नजर रखने में भी मदद कर सकता है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You