अब समुद्र के नीचे ले छुट्टियों का मजा

  • अब समुद्र के नीचे ले छुट्टियों का मजा
You Are HereInternational
Wednesday, December 04, 2013-4:22 PM

वारसॉ: लग्जरी होटल रूम की बात सुनते ही लोग कल्पनाओं की उड़ान भरने लगते हैं। एक ऐसी ही कल्पना अब जल्द ही पूरी होने जा रही है। इस कल्पना का नाम समुद्र में पानी के बीच होटल बनाना है। जो केवल आराम दायक ही नहीं, बल्कि एक अनोखा अनुभव भी होगा।

समुद्र की सतह से 20 फीट नीचे बना कमरा आने वाले दिनों में लोगो की पहली पसंद बन कर सामने आ सकता है। लहरों और मछलियों के बीच सोने की कल्पना खतरनाक लग सकती है, लेकिन पानी के अंदर कमरे बनाने की तकनीक अच्छी तरह स्थापित और जाँची परखी है।

पोलैंड की 'डीप ओशन टेक्नोलॉजी' कंपनी पानी के अंदर 'वाटर डिस्कस' नाम से होटल बनाने की योजना बना रही है। प्रोजेक्ट मैनेजर रॉबर्ट बर्सीविक्ज ऐसा ही मानते है कि इस होटल को खींचकर किसी भी उपयुक्त जगह पर ले जाया जा सकेगा और स्थापित किया जा सकेगा। इसमें कुल 22 कमरे होंगे।

बर्सीविक्ज ने कहा, "अब ऐसी पनडुब्बियां बनाना संभव है, जो समुद्र में 500 मीटर गहराई तक जा सकती हैं, तो पानी के नीचे होटल बनाना मुश्किल नहीं है। पनडुब्बी बनाने से होटल बनाना आसान है, क्योंकि होटल को 15 मीटर की गहराई से नीचे नहीं रखा जा सकता है। पानी धूप के लिए फ़िल्टर का काम करता है और 15 मीटर से नीचे नीले रंग के अलावा बाक़ी रंग धुल जाते हैं। समुद्र की रंगा-रंग दुनिया को करीब से देखने के लिए होटल के कमरों को छिछले पानी में होना चाहिए। हमारी योजना 10 मीटर की गहराई तक कमरे बनाने की है,  क्योंकि इसी क्षेत्र में समुद्र का सबसे ख़ूबसूरत नजारा दिखाई देता है।"

लेकिन साथ ही इसमें सबसे बड़ी चुनौती होटल से होने वाले शोर को क़ाबू में रखना है, क्योंकि शोर से पानी के अन्दर के जीव डर के भाग जाएगे और होटल बनाने का कार्य भी खत्म हो जाएगा। सावधानी से डिजाइन बनाकर इस समस्या का हल भी निकाल लिया गया है। इसके लिए शौचालय, पंप और वातानुकूलन से जुड़े उपकरणों को होटल के बीच वाले हिस्से में रखा जाएगा।

बर्सीविक्ज ने कहा, "समुद्री नियमों को लेकर हर देश के अपने-अपने क़ानून हैं। इस होटल को आप पनडुब्बी जैसा उपकरण भी मान सकते हैं, एक जहाज़ भी मान सकते हैं या फिर समुद्र से तेल निकालने के लिए बनाया गया ढांचा भी मान सकते हैं।"

साउथम्पटन विश्वविद्यालय में समुद्री क़ानूनों के विशेषज्ञ डॉक्टर एलेक्ज़ेंद्रोस तोवास के अनुसार, ब्रिटेन के तट से 12 नॉटिकल मील के अंदर होटल बनाया जा सकता है, लेकिन इसके लिए सरकार से अनुमति लेनी पड़ेगी। सुमद्र पर्यावरण के लिए अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों का भी पालन करना पड़ेगा।

अमेर‌िका के दक्षिण पूर्वी क्षेत्र में स्थित गरम पानी वाले समुद्र इसके लिए उपयुक्त हैं। फ्लोरिडा के तट पर स्थित दो बेडरूम वाला जूल्स अंडरसी लॉज साल 1986 से आंगतुकों को 31 फीट की गहराई पर ठहरा रहा है। इस ढांचे को 1970 के दशक में प्यूर्तो रिको के तट पर समुद्री प्रयोगशाला के तौर पर इस्तेमाल किया जाता था।

लेकिन जूल्स का तरीका डीप सी टेक्नोलॉजी के प्रस्तावित होटल से अलग है। इसका पूरा ढांचा पानी के नीचे है और केवल स्कूबा गियर पहनकर ही वहां जाया जा सकता है।



 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You