'चीन में कोई भी सुरक्षित महसूस नहीं कर सकता'

  • 'चीन में कोई भी सुरक्षित महसूस नहीं कर सकता'
You Are HereInternational
Thursday, December 05, 2013-9:05 AM

वाशिंगटन: ओबामा प्रशासन की एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि चीन में कोई भी खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर सकता, क्योंकि चीन अपने लोगों के मौलिक अधिकारों पर कड़े प्रतिबंध लागू करता है।

अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सुसन राइस ने मानवाधिकारों से जुड़े अपने एक भाषण में कहा, ‘‘चीनी जनता अपनी अभिव्यक्ति और सभा करने की स्वतंत्रता पर बढ़ते प्रतिबंधों का सामना कर रही है। चीन में जब लोग भ्रष्टाचार, पर्यावरण को पहुंच रहे नुकसान के लिए सरकारी अधिकारियों को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते तो चीन और दुनिया को प्रभावित करने वाली समस्याएं अनसुनी रह जाती हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘जब अदालत चीन के कानूनों के प्रति सम्मान रखने वाले राजनीतिक रूप से असंतुष्ट लोगों को कैद की सजा देती है तो चीन में व्यापार कर रहे अमेरिकियों समेत कोई भी खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करता। जब जातीय एवं धार्मिक अल्पसंख्यक जैसे तिब्बती और उईगर लोगों को उनके मौलिक अधिकारों से दूर रखा जाता है, तो विविधतापूर्ण समाजों को साथ बांधने वाला विश्वास कमजोर पड़ जाता है। इनसे चीन की क्षमता अंदर से कमजोर पड़ती है। दुनिया के भविष्य की सुरक्षा एवं समृद्धि के लिए चीन के साथ सकारात्मक संबंधों का निर्माण महत्वपूर्ण है।’’
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You