देवयानी मामला: 'अमेरिका न केस वापिस लेगा और न ही माफी मांगेगा'

  • देवयानी मामला: 'अमेरिका न केस वापिस लेगा और न ही माफी मांगेगा'
You Are HereInternational
Friday, December 20, 2013-11:40 AM

वाशिंगटन: अमेरिका ने राजनयिक देवयानी खोबरागड़े के मामले में आरोप वापस लेने और उनके साथ कथित बुरे बर्ताव को लेकर माफी मांगने संबंधी भारत की दोनों मांगों को स्वीकार करने से इंकार कर दिया है। देवयानी को पिछले सप्ताह न्यूयार्क में गिरफ्तार किया गया था।
 
विदेश विभाग की प्रवक्ता मैरी हर्फ ने कहा, ‘‘हमने इन आरोपों को बहुत गंभीरता से लिया है। हम इन आरोपों से किसी भी सूरत में पीछे नहीं हटेंगे। फिर से बता दूं कि यह कानून के पालन का मुद्दा है।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या देवयानी को छोड़ दिया जाएगा और अमेरिकी अदालत से आरोपों को खारिज करने को कहा जाएगा, हर्फ ने कहा, ‘‘ नहीं ।’’

राजनयिक के खिलाफ आरोपों को निरस्त किए जाने की संभावना से इंकार करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘मुझे शिकायत का ब्यौरा मालूम नहीं है और मुझे नहीं पता कि क्या केवल शिकायत को वापस लेने से आरोप समाप्त हो जाएंगे। निश्चित रूप से हम इस प्रकार के आरोपों को बेहद गंभीरता से लेते हैं। अभियोग चलाया जाए या नहीं, यह हमारा फैसला नहीं है।’’

उन्होंने कहा कि अमेरिका हर साल प्रत्येक ऐसे देश को, जहां उसके राजनयिक हैं, वहां राजनयिक नोट के माध्यम से  ‘‘उन दायित्वों के बारे में सूचित करता है, जिनका उन्हें अपने कर्मचारियों को अमेरिका लाने पर पालन करना होगा।’’

हर्फ ने कहा, ‘‘हम इन दायित्वों को पूरी तरह स्पष्ट करते हैं और इन दायित्वों का पालन नहीं किए जाने के प्रत्येक आरोप को हम बेहद गंभीरता से लेते हैं। इसलिए निश्चित रूप से , इस पर कोई चर्चा नहीं होने जा रही है। हम केवल चाहते हैं कि प्रक्रिया आगे बढ़े ।’’

उन्होंने अमेरिकी सरकारी अभियोजक प्रीत भराड़ा के कथित बेहद सख्त बयान से विदेश मंत्रालय को अलग किए जाने से इनकार किया। भराड़ा के बयान को भारत में काफी सख्त बयान के रूप में देखा गया है। राजनीतिक मामलों के लिए विदेश राज्य मंत्री वेंडी शेरमन और भारत की विदेश सचिव सुजाता सिंह के बीच फोन पर हुई बातचीत के बाद इस प्रकार की रिपोर्ट आई हैं।

भारतीय विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद के बयान को काटते हुए हर्फ ने कहा कि उनके और विदेश मंत्री जॉन कैरी के बीच किसी बातचीत की योजना नहीं थी और अभी भी ऐसा कुछ नहीं है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘कोई योजना नहीं है, 'कैरी द्वारा खुर्शीद को फोन करने की'। "

हर्फ ने कहा, ‘‘मेरा कहने का मतलब है कि कैरी हमेशा बात करने के लिए तैयार हैं, लेकिन मुझे लगता है कि भारत में आज इस बारे में कुछ गलत रिपोर्टिंग हुई है कि वह ऐसी कोई योजना बना रहे हैं लेकिन ऐसा मामला नहीं है।’’

खुर्शीद ने दिल्ली में मीडिया को दिए साक्षात्कार में कहा था कि उनकी कैरी के साथ बातचीत की कोई योजना थी। उन्होंने बताया कि कैरी वर्षांत की छुट्टियों में परिवार के साथ हैं और वह छुट्टियों के बाद वाशिंगटन लौटेंगे।

एक दिन पहले कैरी ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन से फोन पर बात की थी और देवयानी के साथ कथित दुर्व्यवहार पर खेद जताया था। भारतीय राजनयिक को वीजा जालसाजी आरोपों पर गिरफ्तार किए जाने के बाद उनके साथ कथित बुरे बर्ताव की खबरें हैं ।

कैरी के फोन करने से दोनों देशों के बीच संबंधों में अचानक बढ़ा तनाव शांत होता दिख रहा था।  हर्फ ने कहा, ‘‘हम बार-बार यह दोनों संदेश दे रहे हैं कि जो कुछ हुआ उस पर खेद हैं, लेकिन यह भी कि यहां से हम आगे कैसे बढ़ेंगे। यह संदेश हम लगातार उचित राजनयिक चैनलों के माध्यम से, राजनयिक तरीके से भारत सरकार को भेज रहे हैं।’’

नौकरानी संगीता रिचर्ड के ससुर के नई दिल्ली में अमेरिकी दूतावास में काम करने की बात को स्वीकार करते हुए हर्फ ने कहा, ‘‘ मैं पुष्टि करती हूं कि वह करते थे या करते हैं,  मुझे मौजूदा स्थिति का नहीं पता। उन्हें एक अमेरिकी राजनयिक ने निजी स्तर पर नौकरी पर रखा था, लेकिन अमेरिकी कर्मचारी के रूप में नहीं।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You