मुशर्रफ ने देशद्रोह के लिए विशेष अदालत के गठन को चुनौती दी

  • मुशर्रफ ने देशद्रोह के लिए विशेष अदालत के गठन को चुनौती दी
You Are HereInternational
Tuesday, December 31, 2013-11:31 PM

इस्लामाबाद: वर्ष 2007 में आपातकाल लगाने को लेकर देशद्रोह के आरोपों का सामना कर रहे पाकिस्तान के पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने अपने उपर मुकदमे की सुनवाई के लिए विशेष अदालत का गठन किए जाने के खिलाफ आज एक अपील दायर की।

देशद्रोह के आरोप में कल उनके खिलाफ अदालत में सुनवाई होने वाली है। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय में दायर याचिका में विशेष अदालत के खिलाफ मुशर्रफ की तीन पूर्व याचिकाओं को खारिज किए जाने के न्यायमूर्ति रियाज अहमद खान के फैसले को चुनौती दी गई है। मुशर्रफ की कानूनी टीम के एक अहम सदस्य मोहम्मद अली सैफ ने पीटीआई को बताया कि उन्होंने 23 दिसंबर के उस अदालती आदेश के खिलाफ एक अपील दायर की है, जिसने उनकी पूर्व याचिकाओं को खारिज कर दिया था। हमने अब एक बड़ी पीठ के समक्ष याचिका दायर की है।

याचिका के जरिए उच्च न्यायालय से विशेष अदालत के कामकाज पर रोक लगाने को कहा गया है। साथ ही यह भी कहा गया है कि मुशर्रफ के खिलाफ निष्पक्ष सुनवाई होनी चाहिए। इसलिए मुकदमा एक सैन्य अदालत में चलाया जाना चाहिए। मुशर्रफ ने विशेष अदालत के गठन को प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और पूर्व प्रधान न्यायाधीश इफ्तिखार चौधरी की संयुक्त साजिश करार दिया। इसलिए, इस अदालत को काम नहीं करने देना चाहिए। 

गौरतलब है कि मुशर्रफ पर 2007 में आपातकाल लगाने और संविधान को निलंबित करने का आरोप है। वह सेना के प्रथम जनरल हैं जो ऐसे आरोपों का सामना करेंगे और इस मामले में दोषी ठहराए जाने पर उन्हें उम्र कैद या मौत की सजा हो सकती है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You