ब्‍लाउज से खुला राज, रेप करने वाला निकला कोई ओर

  • ब्‍लाउज से खुला राज, रेप करने वाला निकला कोई ओर
You Are HereInternational
Thursday, January 02, 2014-10:34 AM

लंदन: इंग्‍लैंड के 53 वर्षीय पोस्‍टमैन विक्‍टर नियलन ने निर्दोष होते हुए भी 17 साल जेल में रहे। लेकिन अब पुलिस ने पिछले साल दिसंबर में उन्‍हें बाइज्‍जत बरी कर दिया। इस पोस्‍टमैन को 17 साल जेल में उस गुनाह के लिए रका गया जो उसने किया ही नहीं था। जेल से बाहर आने के बाद अब विक्‍टर पुलिस के खिलाफ मुकदमा दायर करने के बारे में सोच रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक, विक्‍टर को जनवरी 1997 में 22 साल की लड़की का रेप करने की कोशिश के अरोप में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। लेकिन जब पीड़ित महिला के ब्‍लाउज में मौजूद डीएनए सबूत की जांच की गई तो पता चला कि रेप की कोशिश विक्‍टर ने नहीं बल्कि किसी और शख्‍स ने की थी, जिसके बाद विक्‍टर को जेल से रिहा कर दिया गया।

विक्‍टर का कहना है कि पुलिस के पास कभी भी मेरे खिलाफ कोई सबूत नहीं था, लेकिन मेरे वकीलों की टीम केस सही से नहीं लड़ सकती थी। अब न्‍याय का वक्‍त है और मैं अपनी जिंदगी वापस चाहता हूं। विक्‍टर ने कहा कि उन्होंने केस की दोबारा जांच करने के लिए पुलिस से बात की है और मुझे लगता है कि पीड़िता को भी इसमें शामिल होना चाहिए। क्‍योंकि पीड़िता को न्‍याय मिलना ही चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You