बंगलादेश में विपक्ष के बहिष्कार के बीच मतदान

  • बंगलादेश में विपक्ष के बहिष्कार के बीच मतदान
You Are HereInternational
Sunday, January 05, 2014-11:46 AM

ढाका: बंगलादेश में विपक्ष के बहिष्कार और कड़ी सुरक्षा के बीच आज आम चुनाव के लिए मतदान हो रहा है। देश की कुल 300 संसदीय सीटों में से आधे से भी कम के लिए मतदान हो रहा है। इन चुनावों में देश के दो प्रमुख राजनीतिक दलों सत्तारूढ़ अवामी लीग और विपक्षी दल बंगलादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के बीच मुख्य लड़ाई है। हालांकि आधे से अधिक सीटों पर सत्तारूढ़ दल की उपस्थिति के बाद उनकी जीत लगभग तय है।

बंगलादेश की मुख्य विपक्षी पार्टी बंगलादेश नेशनलिस्ट पार्टी तथा उसके गठबंधन के 18 दलों के बहिष्कार के बावजूद बंगलादेश में संसदीय चुनाव कराए जा रहे हैं। बिना किसी बाधा के चुनाव के लिए पूरे देश में सुरक्षा बलों की बड़े पैमाने पर तैनाती की गई है। अमेरिका तथा यूरोपीय संघ ने इस चुनाव के लिए अपना पर्यवेक्षक भेजने से इंकार कर दिया है, जिससे चुनाव की विश्वसनीयता को लेकर और अधिक सवाल खड़े हो गए है।

अमेरिका के विदेश विभाग का कहना है कि स्वतंत्र निष्पक्ष तथा विश्वसनीय चुनाव के लिए बंगलादेश के राजनीतिक दलों के बीच सहमति नहीं होने से उनके देश को निराशा हुई है। इस चुनाव में विपक्ष की उपस्थिति नहीं होने से सत्तारूढ़ अवामी लीग की जीत सुनिश्चित है, लेकिन दक्षिण एशिया के इस देश में इस चुनाव से राजनीतिक अशांति और बढ़ सकती है। विपक्ष के बहिष्कार के चलते संसद की आधी सीटों पर आवामी लीग के प्रत्याशी निॢवरोध निर्वाचित घोषित हो चुके है। बीएनपी इस चुनाव को फर्जी बताकर इसका बहिष्कार कर रही है।

विपक्ष का आरोप है कि प्रधानमंत्री शेख हसीना की आवामी लीग देश में निष्पक्ष चुनाव के मार्ग में बाधक हो रही है। उसने 1996 से चली आ रही तटस्थ अंतरिम सरकार की देख रेख में चुनाव की व्यवस्था को संविधान में संशोधन कर बदल दिया है। अवामी लीग ने यह संशोधन 2011 में किया था। इसके अनुसार जब तक चुनाव नहीं हो जाता सत्तारूढ़ पार्टी सत्ता में बनी रहेगी।

गौरतलब है कि चुनावों की घोषणा के बाद से बीएनपी लगातार इसका विरोध करती रही है। उसने लोगों से मतदान का बहिष्कार करने की भी अपील की थी। इस दौरान हुयी ङ्क्षहसा में अब तक 100 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। शुक्रवार से अब तक 60 से अधिक मतदान केन्द्रों पर आग लगा दी गई। चुनाव के दौरान कानून व्यवस्था में मदद के लिए 26 दिसम्बर से ही सेना तैनात की गई है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You