भारत के साथ ऐतिहासिक संबंध कायम रख सकते हैं: अमेरिका

  • भारत के साथ ऐतिहासिक संबंध कायम रख सकते हैं: अमेरिका
You Are HereInternational
Thursday, January 09, 2014-1:49 PM

वॉशिंगटन: पिछले महीने न्यूयॉर्क में भारतीय राजनयिक देवयानी खोबरागड़े की गिरफ्तारी के बाद भारत की कड़ी प्रतिक्रिया से अप्रभावित प्रतीत होते हुए अमेरिका ने आज जोर देकर कहा कि वह अब भी भारत के साथ मजबूत ऐतिहासिक संबंध कायम रख सकता है।

अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता जेन प्साकी ने कहा, ‘‘हमारा अभी भी मानना है कि हम अपने मजबूत ऐतिहासिक संबंधों को कायम रख सकते हैं और हमारा ध्यान इसी पर है। मैं जो कहना चाहती हूं, वह यह है कि हमारी चिंताएं हैं, हम उन्हें निजी तौर पर व्यक्त करेंगे। लेकिन हम लोग वहां से आए उनकी कूटनीतिक नोट को देख रहे हैं। यह उल्लेख करना महत्वपूर्ण है, उसमें से कई उच्च तकनीकी और जटिल मुद्दे हैं और हम लगातार उस प्रक्रिया पर काम करना जारी रखेंगे। मुझे नहीं लगता कि यह उस श्रेणी में आता है, लेकिन हम स्पष्टत: उनके किसी भी आग्रह पर काम कर रहे हैं और सरकार के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।’’

प्साकी ने कहा कि भारत और अमेरिका दोनों इस रिश्ते को आगे बढ़ाना चाहते हैं। साकी नई दिल्ली में अमेरिकी दूतावास परिसर में किसी भी तरह की व्यावसायिक गतिविधि पर रोक लगाए जाने सहित भारत सरकार द्वारा हाल में उठाए गए कदमों पर पूछे गए सवाल पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रही थीं। उन्होंने कहा कि भारत से किसी भी तरह की शिकायत को अमेरिका सार्वजनिक रूप से व्यक्त नहीं करेगा। हालांकि, प्रवक्ता ने अमेरिकी चिंताओं के बारे में कोई ब्यौरा नहीं दिया।

गौरतलब है कि देवयानी की गिरफ्तारी के विरोध में भारत ने जवाबी कार्रवाई करते हुए अमेरिकी राजनयिकों के विशेषाधिकार कम करते हुए कई अन्य कदम उठाए थे। इस घटना से दोनों देशों के संबंधों में ठहराव पैदा हो गया था। साकी ने भारत द्वारा उठाए गए कदमों को ‘‘जवाबी कार्रवाई’’ करार देने से भी इनकार किया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You