संदेह के चलते बुद्ध की जन्मस्थली पर दोबारा खुदाई शुरू

  • संदेह के चलते बुद्ध की जन्मस्थली पर दोबारा खुदाई शुरू
You Are HereInternational
Wednesday, January 15, 2014-1:31 PM

काठमांडो: बौद्ध धर्म की उत्पति छठी सदी ईसा पूर्व होने के संबंध में नए तथ्यों के प्रकाश में आने के बाद नेपाल में कपिलवस्तु के पास तिलौरकोट में भगवान बुद्ध की जन्मस्थली पर दोबारा खुदाई शुरू हो गई है। खुदाई की यह जगह लुम्बिनी के बाग के पश्चिम में स्थित है। पुरातत्वविदों का मानना है कि इस खुदाई से भगवान बुद्ध के बारे में नए तथ्य सामने आएंगे। खुदाई का काम दो महीनों तक चलेगा। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, यूनेस्को के संरक्षण में अंतरराष्ट्रीय सहयोग से यह काम किया जा रहा है।

विशेषज्ञों ने तीन जगहों पर अपना ध्यान केंद्रित किया है, जिनमें से एक जगह भगवान बुद्ध के पिता राजा सुद्धोधन के महल के पश्चिमी दरवाजे का 10 मीटर बचा हिस्सा है। इस महल को इसलिए चुना गया है, क्योंकि यहां इस दरवाजे के नीचे सुरंगें बनी हैं, जिससे यह अनुमान लगाया जा रहा है कि संभवत: दरवाजे के दूसरी तरफ भी इमारतें बनी  होंगी। दूसरी जगह महल से 30 मीटर दूर है। यहां विशेषज्ञों को ईटों के दो बड़े ढेर मिले हैं, जिनकी लंबाई 10 से 15 मीटर है। तीसरी जगह महल की उत्तरी पश्चिमी दीवार है, जहां गत साल विशेषज्ञों को जमीन से साढे तीन फुट नीचे एक ढांचा मिला था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You