भारत और पाक के रिश्तों में सुधार क्यों नहीं हो सकता ?

  • भारत और पाक के रिश्तों में सुधार क्यों नहीं हो सकता ?
You Are HereInternational
Friday, January 17, 2014-6:21 PM

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त टीसीए राघवन ने इस्लामाबाद के साथ व्यापक द्विपक्षीय व्यापार की पैरवी करते हुए कहा है कि जब अमेरिका के साथ ईरान और अफगानिस्तान के रिश्तों में सुधार हो सकता है तो फिर दक्षिण एशिया के इन दो पड़ोसी देशों के बीच बेहतर रिश्ते क्यों नहीं हो सकते। राघवन ने कहा कि पाकिस्तान के साथ भारत बेहतर रिश्ते चाहता है तथा प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पहले ही भारत के साथ संबंधों को मजबूत करने की इच्छा प्रकट कर चुके हैं।

राघवन ने कल पंजाब प्रांत में ‘गुजरात चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री’ के कारोबारी प्रतिनिधियों से कहा, ‘‘अगर अमेरिका के साथ ईरान और अफगानिस्तान के रिश्तों में सुधार हो सकता है तो फिर दक्षिण एशिया के दो सबसे महत्वपूर्ण देशों भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में सुधार क्यों नहीं हो सकता ?’’ भारतीय राजनयिक सूत्रों ने पीटीआई को बताया कि इस महीने इस्लामाबाद में एक कार्यशाला का आयोजन हो सकता है जिसमें दोनों देशों के बीच आसान तरीके से व्यापार करने को लेकर विचार-विमर्श करने के लिए पाकिस्तानी चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स को बुलाया जाएगा। एक सूत्र ने कहा, ‘‘हम अभी इसके लिए प्रक्रियाओं को लेकर काम कर रहे हैं।’’

राघवन का यह बयान नई दिल्ली में दक्षेस शिखर बैठक से इतर पाकिस्तान के वाणिज्य राज्य मंत्री खुर्रम दस्तगीर खान की भारतीय नेताओं के साथ मुलाकात की पृष्ठभूमि में आया है। खान ने कहा है कि इस्लामाबाद द्विपक्षीय व्यापार के रिश्तों को सामान्य बनाने के लिए उत्सुक है और सर्वाधिक तरजीही राष्ट्र की बजाय ‘गैर भेदभावपूर्ण पहुंच’ (नॉन डिस्क्रिमिनटरी एक्सेस) पर काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि द्विपक्षीय व्यापार संबंधों को सामान्य बनाने के रास्ते में सबसे बड़ी बाधा ‘बहुत जटिल वीजा प्रणाली’ है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You