नए पुस्तकालय के लिए हाथों-हाथ किताबों का सफर

  • नए पुस्तकालय के लिए हाथों-हाथ किताबों का सफर
You Are HereInternational
Sunday, January 19, 2014-10:20 PM

रीगा: लातविया की राजधानी रीगा में पुराने पुस्तकालय से किताबों को दो किलोमीटर दूर स्थित नवनिर्मित पुस्तकालय तक पहुंचाने के लिए एक अनोखा तरीका अपनाया गया जहां हर उम्र के हजारों लोगों ने कंपाने वाली ठंड में पुस्तके एक-दूसरे के हाथों में देते हुए दो हजार से अधिक किताबों को उनकी नई जगह पर पहुंचा दिया।

शून्य से 12 डिग्री सेल्सियस कम तापमान में बच्चों और बुजुर्गों समेत लगभग 14 हजार लोगों ने कड़ाके की सर्दी की परवाह किए बगैर मानव श्रृंखला बनाकर एक-दूसरे के हाथों में बढ़ाते हुए लगभग दो हजार पुस्तकों को दो किलोमीटर दूर स्थित नए पुस्तकालय में पहुंचा दिया। शेष बची 40 हजार किताबों को वाहनों के जरिए नए पुस्तकालय में भेजा गया।

इस पुस्तकालय को लातविया में जन्में अमेरिकी अर्किटेक्ट गुन्नार बर्कट्स ने डिजाइन किया है। यह मानव श्रृंखला रीगा को वर्ष 2014 के लिए यूरोप की सांस्कृतिक राजधानी के रूप में चुने जाने के मौके पर आयोजित समारोह की शुरूआत के मौके पर बनाई गई। रीगा को यह सम्मान मिलने के कारण यहां इस वर्ष 200 से अधिक कंसर्ट, प्रदर्शनियों, समारोहों, सम्मेलनों और अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। शहर में इस वर्ष पर्यटकों की संख्या में 25 प्रतिशत की वृद्धि होने की संभावना है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You