अमेरिका अब भी सबसे महत्वपूर्ण सहयोगी: भारत

  • अमेरिका अब भी सबसे महत्वपूर्ण सहयोगी: भारत
You Are HereInternational
Wednesday, January 22, 2014-1:29 PM

वॉशिंगटन: अमेरिका में भारत के राजदूत एस. जयशंकर ने कहा है कि भारत अपनी राजनयिक देवयानी खोबरागड़े की गिरफ्तारी और उनके साथ हुए दुर्व्यवहार से स्तब्ध है, लेकिन अमेरिका अब भी उसका सबसे महत्वपूर्ण सहयोगी है। जयशंकर ने कल यहां एक साक्षात्कार में कहा, "मैं इस मामले को ज्यादा तूल नहीं देना चाहता। मेरा मानना है कि हमें इस मामले को व्यापक दृष्टिकोण से देखने की जरूरत है। मुझे लगता है कि हम इस मसले को सुलझाने के करीब हैं।"

भारतीय राजदूत ने कहा कि अमेरिका में खोबरागड़े की गिरफ्तारी और कपड़े उतारकर उनकी तलाशी लिए जाने की घटना से भारत स्तब्ध है। उन्होंने कहा कि इस मामले में अमेरिका के रूख के प्रति नाराजगी वाजिब थी। खोबरागड़े के साथ न केवल सार्वजनिक तौर पर, बल्कि काफी भयावह तरीके से दुर्व्यवहार किया गया था।

जयशंकर ने कहा, "स्पष्ट तौर पर भारत का अमेरिका के साथ शायद सबसे महत्वपूर्ण संबंध है। हम इस मामले के कारण किसी भी तरह के व्यापार, सौदे अथवा वार्ता पर रोक नहीं लगा रहे हैं, लेकिन जब तक ये मसला पूरी तरह सुलझ नहीं जाए, कोई महत्वपूर्ण निर्णय नहीं लिया जाएगा।"

राजदूत ने कहा कि खोबरागड़े के मामले के अलावा भारतीय और अन्य देशों के राजनयिकों को अमेरिका में मिली विशेष छूट का दायरा बढ़ाए जाने के मसले को भी सुलझाया जाना चाहिए। इस छूट को अमेरिकी राजनयिकों को दूसरे देशों में मिल रही छूट के बराबर ही रखा जाना चाहिए।

यह पूछे जाने पर कि क्या भारत खोबरागड़े के खिलाफ दायर आरोपों को वापस लिए जाने की उनके वकील की मांग का समर्थन करता है। उन्होंने कहा, "यह मामला केवल एक राजनयिक से जुड़ा है, लेकिन राजनयिकों को मिल रही छूट और सुविधाओं का दायरा बढ़ाने का मामला काफी व्यापक है। हमें साथ बैठकर इन पर विचार-विमर्श करना चाहिए।"


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You