धार्मिक परिधानों को लेकर अमेरिकी सेना ने जारी किए नए दिशा-निर्देश

  • धार्मिक परिधानों को लेकर अमेरिकी सेना ने जारी किए नए दिशा-निर्देश
You Are HereInternational
Thursday, January 23, 2014-5:12 PM

वॉशिंगटन: अमेरिकी सेना ने नए दिशा-निर्देश जारी करते हुए कुछ मानकों में ढील दे दी है, ताकि सैनिकों को उनके धर्म के मुताबिक, आभूषण और परिधान पहनने की इजाजत हो। सेना के इस अहम फैसले का दूरगामी असर उस सिखों पर पड़ सकता है, जो अमेरिकी सेना में भर्ती हुए हैं।

बहरहाल, नए दिशा-निर्देशों में सुरक्षात्मक उपकरण जैसे हेलमेट आदि पहनने पर अब भी जोर दिया गया है। मानकों में दी गई छूट अब भी इतनी नहीं है कि सिख समुदाय के लोग बड़ी संख्या में अमेरिकी सशस्त्र बलों में शामिल हो सकें। सिख-अमेरिकी समुदाय की यह मांग पुरानी है।

पेंटागन के प्रवक्ता नौसेना के लेफ्टिनेंट कमांडर नैटहैन जे क्रिस्टेन्सन ने कल एक बयान में बताया कि नई नीति में कहा गया है कि सैन्य विभाग सर्विस सदस्यों के धार्मिक अनुरोध पर तब ही विचार करेगा, जब उस अनुरोध का सेना की तैयारी पर, मिशन पूरा करने में, एकजुटता और अनुशासन पर प्रतिकूल असर न पड़े।’’

उन्होंने कहा, ‘‘धार्मिक चलन अपनाने के लिए सभी अनुरोधों पर मामला दर मामला विचार किया जाएगा। क्रिस्टेन्सन ने कहा कि कमांडर ऐसी स्थिति में धार्मिक परिधान या प्रतीकों को पहनने की अनुमति दे सकते हैं, जब कि उसमें सैन्य विभाग या उन सर्विस नीतियों की छूट की जरूरत न हो, जो कि सैन्य वर्दी और धार्मिक परिधान आदि के बारे में हो।

उन्होंने कहा कि इन बातों पर विचार किया जाएगा कि धार्मिक परिधानों से कहीं सैन्य दायित्व निर्वाह में बाधा न आए, स्वास्थ्य और सुरक्षा संबंधी खतरा न हो। क्रिस्टेन्सन के अनुसार, पेंटागन का मानना है कि नए दिशा-निर्देशों से कमांडरों और सुपरवाइजरों की व्यवस्था और अनुशासन बनाए रखने की क्षमता बढ़ेगी तथा सेना में भेद-भाव होने की धारणा दूर होगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You