हजारा समुदाय का धरना खत्म, शवों को दफनाने के लिए हुए सहमत

  • हजारा समुदाय का धरना खत्म, शवों को दफनाने के लिए हुए सहमत
You Are HereInternational
Friday, January 24, 2014-12:43 PM

कराची: शोकग्रस्त हजारा समुदाय ने दो दिन से चल रहा अपना धरना आज समाप्त कर दिया और मारे गए जायरीन के शवों को दफनाने के लिए सहमत हो गए। उन्हें पाकिस्तान के गृह मंत्री चौधरी निसार ने मस्तुंग विस्फोट के षड्यंत्रकारियों के खिलाफ लक्षित अभियान चलाने का आश्वासन दिया है। हजारा समुदाय के नेता अब्दुल खलीक हजारा ने क्वेटा में जारी धरना आज समाप्त करने और मारे गए जायरीन के शवों को दफनाने का ऐलान किया।

बीती रात संवाददाताओं से बातचीत में खलीक ने कहा कि मस्तुंग नरसंहार में मारे गए लोगों को शुक्रवार को दफनाया जाएगा। मजलिस-ए-वहादातुल मुसलीमीन (एमडब्ल्यूएम) के नेता रजा नसीर अब्बास ने भी घोषणा की कि देशव्यापी धरना खत्म किया जाएगा।

गृह मंत्री चौधरी निसार सूचना मंत्री परवेज राशिद के साथ विमान से बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा आए और समुदाय के साथ बातचीत की। इस बातचीत को उन्होंने सफल बताते हुए आश्वासन दिया कि समुदाय की सभी मांगों पर विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा ‘‘आतंकवादी बच नहीं सकते। हम उन्हें पकड़ेंगे और न्याय के दायरे में लाएंगे।’’ गृह मंत्री ने कहा कि संघीय और प्रांतीय सरकारें बलूचिस्तान और क्वेटा को हजारा समुदाय के लिए शांतिपूर्ण बनाएंगी। आतंकवादी बार बार इस समुदाय को निशाना बनाते रहे हैं।

गौरतलब है कि मस्तुंग में मंगलवार को एक शक्तिशाली विस्फोट हुआ, जिसमें 28 लोग मारे गए। हजारा समुदाय ने इन लोगों के शवों को दफनाने से मना कर दिया था। ऐसे ही धरने और प्रदर्शन कराची, लाहौर, इस्लामाबाद और रावलपिंडी सहित अन्य शहरों में हुए। इसी बीच, सुरक्षा बलों ने मस्तुंग के कनक और डेरीनगर इलाकों में आज सुबह अभियान चलाया और कम से कम तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया है।

यह अभियान सुरक्षा बलों ने चलाया है और इसमें फ्रंटियर कॉर्प, पुलिस, आतंकवादी निरोधक बल, लेवाइस तथा बलूचिस्तान कॉन्स्टेबुलरी के जवान शामिल हैं। सुरक्षा बलों को हेलीकॉप्टरों और बख्तरबंद वाहनों से मदद की जा रही है।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You