यह स्थिति पैदा नहीं होनी चाहिए थी : जयशंकर

  • यह स्थिति पैदा नहीं होनी चाहिए थी : जयशंकर
You Are HereInternational
Thursday, January 30, 2014-4:28 PM

वॉशिंगटन: अमेरिका में भारत के राजदूत एस.जयशंकर का कहना है कि खोब्रागड़े मामले में दोनों देशों के रिश्ते को हुई क्षति को ठीक करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि यह स्थिति उत्पन्न नहीं होनी चाहिए था, जिसे दोनों देश अनिवार्य मानते हैं। 

जयशंकर ने अमेरिकी जनता को संबोधित करते हुए बुधवार को भारतीय राजनयिक देवयानी खोब्रागड़े की गिरफ्तारी पर उपजे कूटनीतिक विवाद के संदर्भ में कहा, ‘‘हममें से उन लोगों ने जिन्होंने भारत-अमेरिका संबंध को ऊर्जा और समय दिया है, उनके लिए पिछला कुछ सप्ताह हताशापूर्ण रहा है। मेरे आने के बाद जो चीजें मैंने देखी, ऐसी स्थिति पैदा नहीं होनी चाहिए थी। लेकिन जब से यह हुआ, हमें इस समस्या पर काम करना होगा। जो हमारी वार्ता का हिस्सा है। लेकिन हमारे संबंध को मजबूती से देखे जाने, बेहतर समझे जाने और संवेदनशीलता बरते जाने पर प्रकाश डालने की जरूरत है।’’

जयशंकर ने कहा कि अमेरिका को संबंधों को गठबंधन की परंपरा के चश्मे से देखे जाने की अपनी प्रवृति से बाहर आने की जरूरत है, जबकि भारत के लिए जरूरी है कि यह अस्पष्ट दबाव में खुद को नहीं डाले। भारतीय राजनयिक ने कहा कि मतभेद के बावजूद राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि अमेरिका महत्वपूर्ण सांझीदार के रूप में भारत को अपनी मुख्य प्राथमिकता समझता है। 

जयशंकर ने कहा, ‘‘भारत की चार मुख्य प्राथमिकताओं- अर्थव्यवस्था में ऊर्जा, हमारे प्रौद्योगिकी और प्रबंधन क्षमता को बढ़ाना, देश को सुरक्षित रखना और सत्ता का संतुलन, को समझने के लिए भारत एक महत्वपूर्ण सांझीदार है। उन्होंने कहा कि दोनों देश व्यापार और निवेश के मसले पर सार्वजनिक बहस जारी रख सकते हैं। जयशंकर ने कहा, ‘‘कुछ मसले पर हमें कुछ समझौते करने हैं क्योंकि वास्तविकता यह है कि हम अलग-अलग जगह से आते हैं।’’

 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You