चुनाव कराने की स्थिति में नहीं है अफगानिस्तान

  • चुनाव कराने की स्थिति में नहीं है अफगानिस्तान
You Are HereInternational
Thursday, February 06, 2014-7:16 PM

काबुल: अफगानिस्तान में चुनाव कराने वाली संस्था धन और कर्मचारियों की कमी के कारण अप्रैल में राष्ट्रपति का चुनाव कराने की स्थिति में नहीं है। राष्ट्रपति के उम्मीदवारों ने अपना प्रचार शुर कर दिया है। इससे अफगान और पश्चिमी देशों को उम्मीद बंधी है कि वहां स्थिरता को मजबूती मिलेगी क्योंकि विदेशी सैनिक 13 वर्ष बाद देश छोडकर चले जाएंगे। लेकिन अभियान में तेजी है और चुनाव शिकायत आयोग (ईसीसी) ने कहा है कि उसे बहुत कम धन विदेशी दानदाताओं से प्राप्त हुआ है क्योंकि सरकार ने प्रान्तीय अधिकारियों की अभी तक नियुक्ति नहीं की है। जब तक ऐसा नहीं होता, संयुक्त राष्ट्र धन नहीं देगा क्योंकि वही बजट की प्रशासनिक व्यवस्था करता है।

ईसीसी के अधिकारियों ने कहा है कि दो बड़े जेनरेटरों और कुछ फर्नीचरों के अलावा और कोई चीज नहीं खरीदी गई है। अधिकारी ने कहा कि हमें प्रांतों में अपने कार्यालय खोलने है। आयोग को कुल बजट के लिए एक करोड़ बीस लाख डालर संयुक्त राष्ट्र से और 18 लाख डालर सरकार से मिलना है। संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि उसने ईसीसी को चुनाव के लिए तैयार करने के लिए हरसंभव प्रयास किया लेकिन कानून बनाने और कर्मियों की नियुक्ति में विलंब के कारण वह समय पर चुनाव की तैयारी नहीं कर पाएगा। संयुक्त राष्ट्र के एक अधिकारी ने कहा चुनाव के लिए समय पर तैयारी कर पाना उसके लिए एक चुनौती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You