18 फरवरी को अदालत में पेश हो मुशर्रफ

  • 18 फरवरी को अदालत में पेश हो मुशर्रफ
You Are HereInternational
Friday, February 07, 2014-6:34 PM

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में राजद्रोह के मामले की सुनवाई कर रही एक विशेष अदालत ने पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ को 18 फरवरी को अदालत में उपस्थित होने के लिए सम्मन किया। अदालत ने कहा कि अगर वह ऐसा नहीं कर पाते तो उनके खिलाफ गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी किया जाएगा। अदालत ने यह निर्देश तब जारी किया जब मुशर्रफ एक बार फिर मामले की सुनवाई में पेश नहीं हुए। इससे पहले, न्यायाधीशों ने उन्हें आज निजी तौर पर पेश होने का निर्देश जारी करते हुए जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी किया था।

अदालत ने मुशर्रफ की याचिका स्वीकार कर ली जिसमें उन्हें आज पेशी से छूट देने को कहा गया था। मुशर्रफ के वकील अनवर मंसूर ने अदालत को आश्वासन दिया कि उनका मुवक्किल 18 फरवरी को अदालत में पेश होगा। मंसूर ने कहा, ‘‘परवेज मुशर्रफ अस्पताल से छुट्टी पाने के बाद अदालत में पेश होंगे।’’ विशेष अदालत के न्यायाधीश न्यायमूर्ति फैसल अरब ने आगाह किया कि अगर अगली सुनवाई में मुशर्रफ उपस्थित नहीं होते हैं तो उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट किया जाएगा।

सरकार की ओर से पिछले साल विशेष अदालत का गठन किया गया था। इसके बाद से किसी भी सुनवाई में मुशर्रफ उपस्थित नहीं हुए। नवंबर, 2007 में आपातकाल लगाए जाने को लेकर मुशर्रफ के खिलाफ राजद्रोह का मामला चलाया जा रहा है। बीते दो जनवरी को हृदय संबंधी परेशानी पैदा होने के कारण मुशर्रफ को रावलपिंडी के एक सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

अदालत ने 31 जनवरी को मुशर्रफ के खिलाफ जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी कहते हुए कहा था कि मुशर्रफ जानबूझकर सुनवाई से अनुपस्थित हो रहे हैं। मुशर्रफ के करीबी राशिद कुरैशी ने अदालत के आदेश के मुताबिक 25 लाख रूपए का मुचलका जमा किया। सूत्रों का कहना है कि अदालत आज शाम फैसला कर सकती है जिसमें मुशर्रफ के मुचलके पर निर्णय भी हो सकता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You