'तालिबान ने शरिया लागू करने की मांग नहीं की'

  • 'तालिबान ने शरिया लागू करने की मांग नहीं की'
You Are HereInternational
Saturday, February 08, 2014-1:34 PM

इस्लामाबाद:  क्रिकेटर से राजनीतिज्ञ बने इमरान खान का कहना है कि तालिबान का पाकिस्तानी संविधान के तहत सरकार से बात करने की इच्छा जाहिर करने से उन लोगों से नकाब हट गया है, जिन्होंने शरिया को आतंकवाद के साथ जोडऩे की कोशिश की है।

जियो न्यूज के मुताबिक, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान ने कहा कि सरकार के साथ हुए पिछले नौ समझौते में तालिबान ने कभी भी शरिया लागू करने की मांग नहीं की, इसके बाद पाकिस्तानी संविधान के अनुसार शरिया के खिलाफ कोई कानून नहीं बनाया गया।

इमरान ने कहा कि तालिबानी आतंकवाद अमेरिकी युद्ध की वजह से पैदा हुआ है और आतंकवादियोंं ने पाकिस्तान को अमेरिकी युद्ध से अलग करने और ड्रोन हमले को बंद करने की मांग की थी।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You