बांग्लादेश के युद्ध अपराध आरोपी जमात नेता की मौत

  • बांग्लादेश के युद्ध अपराध आरोपी जमात नेता की मौत
You Are HereInternational
Sunday, February 09, 2014-4:26 PM

ढाका: कट्टरपंथी जमात-ए-इस्लामी के शीर्ष नेताओं में से एक और 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम में मानवता के खिलाफ युद्ध अपराध के आरोपी ए. के. एम युसूफ का आज यहां निधन हो गया। ढाका के केंद्रीय कारागार के वरिष्ठ निरीक्षक फरमान अली ने बताया कि 87 वर्षीय युसूफ आज सुबह गाजीपुर की काशिमपुर जेल में अपनी कोठरी में बीमार पड़ गए, जिसके बाद उन्हें बंगबंधु शेख मुजीब मेडिकल यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल ले जाया गया और अस्पताल में भर्ती कराए जाने के दौरान ही युसूफ की मौत हो गई।

1971 के मुक्ति संग्राम के दौरान हिंदू और बंगाली राष्ट्रवादियों को निशाना बनाने वाली कुख्यात रजाकर वाहिनी का नेतृत्व करने वाले युसूफ का दिल का दौरा पडऩे से निधन हुआ।  बीएसएमएमयू के निर्देशक ए. एम. भुईयां के हवाले से बीडीन्यूज 24डॉटकॉम ने बताया कि जमात नेता की दिल का दौरा पडऩे से मौत हुई।

गौरतलब है कि पिछले वर्ष 12 मई को गिरफ्तार किए गए युसूफ को अंतरराष्ट्रीय अपराध पंचाट 2 ने 15 युद्ध अपराधों में दोषी ठहराया था, जिनमें हत्या, नरसंहार और आगजनी के आरोप भी शामिल थे। 1971 के दौरान के अपराधों की जांच के लिए 2010 में इस पंचाट का गठन किया गया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You