थाईलैंड में राजनीतिक संकट गहराया

  • थाईलैंड में राजनीतिक संकट गहराया
You Are HereInternational
Sunday, February 16, 2014-9:06 PM

बैंकाक: थाईलैंड में राजनीतिक संकट आज उस समय और गहरा हो गया जब प्रदर्शनकारियों के प्रमुख नेता ने कहा कि बातचीत के लिए दरवाजे बंद हो गए हैं वहीं सरकार ने महीनों से प्रमुख इमारतों का घेराव कर रहे लोगों के खिलाफ बल प्रयोग करने की धमकी दी है। सरकार विरोधी पीपुल्स डेमोक्रेटिक रिफार्म कमिटी (पीडीआरसी) के प्रमुख सुथेप थॉगसुबन ने यह कहते हुए बातचीत के लिए काफी मुश्किल शर्त रख दी है कि वह सिर्फ पूर्व प्रधानमंत्री थकसिन शिनावात्रा से ही वार्ता करेंगे जो स्वनिर्वासन में हैं।

प्रदर्शकारी प्रधानमंत्री वाई शिनावात्रा के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। सुथेप ने कहा, ‘‘बातचीत बंद समझना चाहिए। मैं शिनावात्रा से बातचीत नहीं करूंगा, सार्वजनिक रूप से या गोपनीय तरीके से। मैं सरकार के किसी प्रतिनिधि से बात नहीं करूंगा क्योंकि वास्तव में उनके पास कोई अधिकार नहीं है।’’ थसकिन का 2006 में तख्ता पलट दिया गया था और वह दुबई में हैं।

इस बीच बैंकाक पोस्ट की एक खबर के अनुसार शांति व्यवस्था देखने वाले निकाय सीएमपीओ के निदेशक सी युवामरूंग ने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय के पास के इलाके को प्रदर्शनकारियों के कब्जे से मुक्त करा दिया जाएगा और बातचीत के लिए अब तक किए प्रयासों के नाकाम रहने को देखते हुए अब कोई वार्ता नहीं होगी। उन्होंने कहा कि इन स्थलों को मुक्त कराने के लिए पुलिस बल प्रयोग करेगी। अगर प्रदर्शनकारी जिनके बारे में कहा जा रहा है कि वह हथियारों से लैस हैं, प्रतिरोध करते हैं तो पुलिस आत्मरक्षार्थ हथियारों का उपयोग कर सकती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You