अमीर अभिभावकों के बच्चे होते हैं उपेक्षित!

  • अमीर अभिभावकों के बच्चे होते हैं उपेक्षित!
You Are HereEngland
Wednesday, February 19, 2014-12:22 PM

लंदन: सच ही कहा गया है कि धन से बहुत कुछ खरीदा जा सकता है लेकिन सब कुछ नहीं। अमीर घरों के बच्चे भले ही अपनी पसंद की हर चीज के साथ पलते बढ़ते हैं लेकिन वे अपने माता पिता के साथ बहुत कम वक्त बिता पाते हैं और उन्हें अपने अभिभावकों के प्यार से महरूम होना पड़ता है। ब्रिटिश कोलंबिया की यूनीवर्सिटी के मनोविज्ञान के शोधकर्ताओं ने अपने नये अध्ययन में यह खुलासा किया है कि वित्तीय संकट से जूझ रहे माता पिता के लिये जिंदगी आसान नहीं रहती और उन्हें कई तरह की कमी से जूझना पड़ता है लेकिन अमीर माता पिता के लिये भी स्थिति कोई खास अच्छी नहीं है।

अमीर अभिभावक धन कमाने में इतने मशगूल होते हैं कि वे जिनकी बेहतरी के लिये अपनी संपत्ति जमा कर रहे होते हैं। उन्हीें बच्चों की उपेक्षा कर देते हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक धन और बच्चे पालना दो अलग अलग बाते हैं लेकिन बहुत से लोग इन्हें एक साथ जोड़ कर देखते हैं और मानते हैं कि अगर उनके पास ज्यादा धन होगा तो वे अपने बच्चों की परवरिश बेहतर कर पायेंगे। शोध रिपोर्ट से इसी सोच का खंडन किया गया है और बताया गया है कि अमीरी किसी को अच्छा माता पिता नहीं बना सकती है।

रिपोर्ट के मुताबिक धनी माता पिता अपने काम,धन,संपत्ति और सामाजिक स्थिति को बनाने में इतने मशगूल हो जाते हैं कि वे अपने बच्चों के पालन पोषण को ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं समझते हैं। धन की वजह से माता पिता के लक्ष्य दो भाग में बंट जाते हैं जिसमें एक तरफ धन होता है और दूसरी तरफ बच्चों की परवरिश। शोध में बताया गया है कि महिलायें इस चक्कर में ज्यादा आती हैं और वे धनी होने पर सबसे अधिक अपने बच्चों के पालन पोषण को नजरअंदाज करती हैं। धनी माता पिता अपने बच्चों की इच्छाओं को नजरअंदाज करते हैं और समझते हैं कि बच्चों को कीमती सामान देकर बहलाया जा सकता है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You