ज्यादा दोस्त होना, हो सकता है दुखी होने का परिचायक

  • ज्यादा दोस्त होना, हो सकता है दुखी होने का परिचायक
You Are Hererelationship
Thursday, February 20, 2014-12:24 PM

अमेरिका: अगर किसी इंसान के बहुत सारे दोस्त है और आप उसे बेहद खुश इंसानों की फेहरिस्त में शामिल करते हैं तो हो सकता है कि अब आपको अपनी सोच में बदलाव करना पड़ जाए क्योंकि व्यक्ति विशेष के ज्यादा दोस्त होना उसके जीवन में खुशी की जगह उसके एकाकीपन और दुखी होने का भी परिचायक हो सकता है।
      

हाल ही में अमेरिका के मेन में हुए एक शोध में यह खुलासा हुआ है कि अगर किसी व्यक्ति के ज्यादा दोस्त हैं तो यह उसके खुश होने का प्रमाण नहीं है और हो सकता है कि उसका जीवन एकाकीपन और उदासी से भरा हो।
     

इस शोध के दौरान शोधार्थियों ने चार साल तक 16000 से अधिक लोगों के व्यक्तित्व की विलक्षणता से लेकर उनके खुशी के स्तर को परखा। अध्ययन की शुरुआत में जो लोग काफी बहमुखी दिखाई दिए वह आगे भी काफी सुखी दिखे लेकिन जब इस खुशी और सुख का स्तर आगे बढा तो यह प्रतिभागी बेहद अंतरमुखी, एकाकी और दुखी नजर आने लगे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You