भारत दक्षेस में संस्थागत सुधार के पक्ष में: खुर्शीद

  • भारत दक्षेस में संस्थागत सुधार के पक्ष में: खुर्शीद
You Are HereInternational
Friday, February 21, 2014-1:33 AM

माले : भारत ने दक्षेस में संस्थागत सुधार करने और इसके पर्यवेक्षक दर्जा वाले देशों के साथ संबंधों की प्रकृति पर एक स्पष्ट नीति परिभाषित करने की अपील की। विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने आठ सदस्यीय दक्षेस को तेजी से आगे बढऩे और दक्षेस ढांचे में  सहयोग को गति देने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि हमारी प्रगति की संपूर्ण दिशा कुल मिलाकर सकारात्मक है।

उन्होंने मालदीव की राजधानी में दक्षेस विदेश मंत्रियों की बैठक में कहा, ‘‘दक्षेस सचिवालय द्वारा दक्षेस पर व्यापक अध्ययन और कल हुई चर्चा संस्थागत सुधार की दिशा में एक समग्र विचार को रेखांकित करने को अहमियत देता है।’’ उन्होंने कहा कि दक्षेस में पर्यवेक्षक का दर्जा रखने वाले साझेदार देशों के साथ संबंधों की प्रकृति और दिशा पर अपनी सोच स्पष्ट करने की जरूरत है। कुछ पर्यवेक्षक देशों ने हमारे सहयोग से सराहनीय कार्य किया है लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि इससे पहले की हम आगे बढ़े, इन संबंधों और उनके भविष्य की दिशा के प्रति हम एक स्पष्ट नीति और उद्देश्य परिभाषित करे।

आस्ट्रेलिया, चीन, यूरोपीय संघ, ईरान, जापान, दक्षिण कोरिया, मॉरीशस, म्यामां और अमेरिका दक्षेस के नौ पर्यवेक्षक सदस्य हैं। खुर्शीद ने कहा कि 1985 में अपने गठन के बाद से दक्षेस ने एक लंबी दूरी तय की है। इसकी उपलब्ध्यिों के बारे में बहुत कम संदेह है हमारी संपूर्ण प्रगति सकारात्मक है, हमें तेजी से आगे बढऩे और दक्षेस ढांचे में हमारे सहयोग में गति लाने की जरूरत है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You