‘अफगानिस्तान में पाक के भाड़े के सैनिक बना सकते हैं भारतीय प्रतिष्ठानों को निशाना’

  • ‘अफगानिस्तान में पाक के भाड़े के सैनिक बना सकते हैं भारतीय प्रतिष्ठानों को निशाना’
You Are HereInternational
Friday, February 21, 2014-7:34 PM

वाशिंगटन: एक प्रतिष्ठित अमेरिकी थिंक टैंक ने अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कहा है कि अफगानिस्तान में 2014 के आखिरी महीनों मेें अमेरिकी बलों के निकलने के बाद पाकिस्तान के भाड़े के सैनिक भारत के प्रतिष्ठानों पर हमले तेज कर सकते हैं। सेंटर फोर नेवल एनालिसिज (सीएनए) द्वारा अमेरिकी रक्षा मंत्री के अनुरोध पर तैयार रिपोर्ट के अनुसार 2014 के बाद भारत और ईरान जैसे पड़ोसी देश ‘देखो और इंतजार करो’ की नीति अपनाएंगे।

लेकिन पाकिस्तान ऐसा नहीं करेगा और वह 2014 के बाद अफगान राष्ट्रीय सुरक्षा बलों (एएनएसएफ) के खिलाफ तालिबान के अभियान की गति एवं दिशा को प्रभावित करने की कोशिश कर सकता है। सीएनए ने अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘‘भारत अपने निवेश एवं द्विपक्षीय समझौतों को बनाए रख अफगानिस्तान सरकार को स्थिर करना चाहेगा। पाकिस्तान के भाड़े के सैनिकों के बढ़ते हमलों की जद में आने की आशंका को देखते हुए भारत अपने प्रतिष्ठानों की सुरक्षा के लिए अफगानिस्तान में सीमित संख्या में अपने सुरक्षा बल भेज सकता है।’’

रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘ऐसी संभावना नहीं है कि भारत संघर्ष में खींचे जाने के भय या पाकिस्तान के साथ एक और युद्ध के जोखिम को देखते हुए अफगानिस्तान सरकार को स्थिर करने में मदद करने के लिए सुरक्षा बल तैनात करेगा।’’ रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘भारत संभव सीमा तक अफगानिस्तानी मंत्रालयों को मजबूत करने की अपनी कोशिशें बढ़ा देगा और अफगान राष्ट्रीय सेना (एएनए) के अधिकारियों को भारत में प्रशिक्षण देगा।’’ रिपोर्ट में कहा गया कि इन क्षेत्रों में भारत और ईरान के आम हितों को साझा करने की संभावना है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You