चाल्र्स की चैरिटी ने रिश्वत कांड के बाद खुद को भारतीय से किया दूर

  • चाल्र्स की चैरिटी ने रिश्वत कांड के बाद खुद को भारतीय से किया दूर
You Are HereInternational
Sunday, February 23, 2014-8:25 PM

लंदन: कथित रिश्वत के आरोप में भारतीय मूल के एक पिता-पुत्र व्यवसायी की यहां गिरफ्तारी और पूछताछ होने के कुछ दिन बाद ऐसा लगता है कि प्रिंस चाल्र्स समर्थित एक चैरिटी ने इनमें से एक व्यक्ति से चंदा मिलने की बात से दूरी बना ली है। द संडे टाइम्स की खबर के मुताबिक उप प्रधानमंत्री निक क्लेग की पार्टी लिबरल डेमोक्रेट को सर्वाधिक चंदा देने वालों में शामिल परिवार के सदस्य भानू चौधरी ने एक चैरिटी नीलामी में 75,000 पौंड की बोली लगाई थी।

बकिंघम पैलेस में बोरिस बेकर और नोवाक जोकोविक के खिलाफ खेलने का विशेषाधिकार प्राप्त करने के लिए यह बोली लगाई गई थी। हालांकि, भानू को अब सेलीब्रिटी टेनिस मैच पर दावा करने के लिए बकिंघम पैलेस आने का न्योता नहीं दिया जाएगा। ब्रिटिश एशियन ट्रस्ट द्वारा लंदन स्थित विक्टोरिया एवं अल्बर्ट म्यूजियम में कोष संग्रह के लिए कार्यक्रम का आयोजन किए जाने के एक हफ्ते बाद चौधरी और उसके पिता सुधीर को लंदन में गिरफ्तार कर लिया गया।

रिश्वत एवं भ्रष्टाचार के आरोपों पर उनसे कई घंटों तक पूछताछ की गई। इनमें एशिया में रॉल्स रॉयस को मिला रक्षा ठेका भी शामिल है। बहरहाल, इन दोनों ने किसी तरह का कोई गलत काम करने की बात से इनकार किया है। ट्रस्ट की स्थापना प्रिंस के कहने पर की गई है ताकि भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका और बांग्लादेश में धर्मार्थ कार्यों के लिए धन जुटाया जा सके। भारतीय मूल के चौधरी बेल्ग्राविया में 90 लाख पाउंड मूल्य के फ्लैट में रहते हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You