मलाला ने 'खतना' के विरोध में बुलंद की आवाज

  • मलाला ने 'खतना' के विरोध में बुलंद की आवाज
You Are HereInternational
Tuesday, February 25, 2014-11:19 AM

लंदन: पाकिस्तानी किशोरी मलाला यूसुफजई ने महिलाओं का 'खतना' किए जाने के विरोध में आवाज उठाई है। मलाला ने ब्रिटेन में खतना से होने वाली महिला जननांग विकृति (Female Genital Mutilation) के खिलाफ अभियान का समर्थन किया है। आपको बता दें कि खतना में महिला के जननांग का बाहर रहने वाला सारा हिस्सा काटकर केवल मूत्रत्याग और माहवारी के लिए छोटा द्वार छोड़ दिया जाता है। खतना के कारण महिलाओं को संभोग व बच्चे पैदा करने में भारी तकलीफ होती है और इससे उनकी मौत भी हो सकती है। खतना करने के बाद महिलाओं की सेक्‍स के प्रति महिलाओं की रुचि कम हो जाती है। इंग्‍लैंड में रह रही पूर्वी अफ्रीकी देशों की महिलाओं को भी इस प्रथा का सामना करना पड़ रहा है, जो अब इंग्‍लैंड की भी परेशानी का कारण बन रहा है।

इसलिए अब बर्मिंघम में ही बसने के बाद 16 वर्षीय स्कूली छात्रा मलाला ‘हर लड़की के लिए शिक्षा के अधिकार के अपने वैश्विक अभियान’ के साथ इस मुद्दे पर भी ब्रिटिश स्कूलों में व्यापक जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से अपने किशोर साथियों के अभियान के साथ जुड़ गई हैं। ‘गार्डियन’ के साथ साक्षात्कार में मलाला ने 17 वर्षीय फहिमा मोहम्मद के अभियान की प्रशंसा की।  मलाला ने कहा कि वह फाहिमा के अभियान के प्रत्येक चरणों को देखती और समझती हैं कि वे इतनी छोटी उम्र मेें काफी बड़ा काम कर रही हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You