अर्सेनी यात्सेनयुक बनेंगे यूक्रेन के नए प्रधानमंत्री

  • अर्सेनी यात्सेनयुक बनेंगे यूक्रेन के नए प्रधानमंत्री
You Are HereInternational
Friday, February 28, 2014-12:32 PM

कीव: यूक्रेन में तेज रफ्तार से बदलते घटनाक्रम में देश की संसद ने अर्सेनी यात्सेनयुक को नया प्रधानमंत्री मनोनीत किया है। यूक्रेन के बर्खास्त राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच का नाम अंतर्राष्ट्रीय वांछितों की सूची में शामिल किया गया है। इस बात की जानकारी सक्रिय अभियोजक जनरल ओलिह मख्नित्स्की ने दी। यात्सेनयुक की नियुक्ति का 450 सदस्यीय संसद में 371 सदस्यों ने समर्थन किया। बुधवार को सरकार विरोधी प्रदर्शकारियों के नेताओं ने मंत्रिमंडल के प्रमुख के तौर पर यात्सेनयुक के नाम का प्रस्ताव किया था।

39 वर्षीय यात्सेनयुक राजनेता, अर्थशास्त्री और वकील हैं। वे यूक्रेन के राष्ट्रीय बैंक के प्रमुख, संसद के अध्यक्ष, अर्थ मंत्री और विदेश मंत्री रह चुके हैं। यात्सेनयुक सरकार विरोधी प्रदर्शन करने वाले नेताओं में से एक हैं। पिछले वर्ष नवंबर में शुरू हुए विरोध प्रदर्शन ने 18 फरवरी को हिंसक रूप ले लिया।

गौरतलब है कि देश की संसद ने राष्ट्रपति यानुकोविच को हिंसा के कारण 80 से अधिक लोगों के मारे जाने के बाद सत्ता से हटा दिया और उनकी सरकार को बर्खास्त कर दिया। इस बीच गुरुवार को यानुकोविच ने रूसी मीडिया के माध्यम से बयान जारी कर यूक्रेन की संसद 'सुप्रीम रादा' द्वारा लिए जा रहे फैसलों की गैरकानूनी कह कर निंदा की।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार, शनिवार को राजधानी से भाग खड़े होने के बाद पहली बार रूस की इंटरफैक्स समाचार एजेंसी के माध्यम से अपना मुंह खोलते हुए यानुकोविच ने कहा है कि वे अभी वैधानिक राष्ट्रपति हैं और उनसे परामर्श लिए बगैर यूक्रेन की सेना को कोई भी आदेश जारी नहीं किया जा सकता है।

अपने संबोधन में विक्टर ने कहा, "मैं विक्टर फेडोरोविच यानुकोविच यूक्रेन की जनता को संबोधित कर रहा हूं। यूक्रेन की जनता के निर्भीक मत से निर्वाचित मैं अभी भी खुद को यूक्रेन का वैधानिक प्रमुख मानता हूं।" यह साफ नहीं है कि यानुकोविच अभी कहां हैं। उन्होंने 21 फरवरी को राजधानी छोड़ दी थी और एक क्षेत्रीय सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पूर्वी यूक्रेन के खारकोव शहर रवाना हुए थे।

गुरुवार को यूक्रेन की संसद के अध्यक्ष अलेग्जेंडर तुर्चयनोव ने रूस से अपनी नौसैनिकों को रूस के काला सागर अड्डे से बाहर निकलने की अनुमति नहीं देने का आग्रह किया। तुर्चयनोव अभी कार्यवाहक राष्ट्राध्यक्ष हैं। तुर्चयनोव ने संसद से कहा कि अपनी सीमा से बाहर निकलने की सैनिकों की किसी भी गतिविधि को सैनिक आक्रमण के रूप में माना जाएगा।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You