चीन के झिंजियांग में पहली बार बनेगा आतंकवाद निरोधक कानून

  • चीन के झिंजियांग में पहली बार बनेगा आतंकवाद निरोधक कानून
You Are HereInternational
Friday, February 28, 2014-3:09 PM

शंघाई: चीन तनावग्रस्त सुदूर पश्चिमी क्षेत्र झिंजियांग में शांति स्थापना के लिए पहली बार आतंकवाद निरोधक कानून बनाए जाने की योजना में काम कर रहा है। स्थानीय कानून मसौदा संस्थान के निदेशक बो झियाओ के हवाले से मीडिया में आई खबरों में बताया गया कि आतंकवाद निरोधक कानून पर काम इस साल शुरू किए जाने की योजना है। हालांकि इस मामले में अंतिम मसौदा आने में अभी कई वर्षोंं का समय लग सकता है।

बो ने कहा, "इस संबंध में बनाये जाने वाला कानून साल की वैधानिक कार्ययोजना के दूसरे चरण में है।" चीन के इस संसाधन बहुल इलाके में पिछले साल तनाव के कारण भड़की ङ्क्षहसा में 100 से अधिक लोग मारे गए थे। इस क्षेत्र में अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय उईघूर और चीनी हान समुदाय के लोगों के बीच लंबे समय से तनाव जारी है।

इस क्षेत्र में आतंकवाद संबंधी घटनाओं से निपटने के लिए यूं तो चीन अपने आपराधिक कानून का इस्तेमाल करता है, लेकिन स्थानीय अधिकारी कुछ मामलों में इस कानून को नाकाफी मानते हैं। कुछ अधिकारियों का यह भी मानना है कि इस क्षेत्र में काम करने वाले मुस्लिम अतिवादियों को पड़ोसी देशों से मदद मिलती है।

चीन के सुरक्षा बलों ने फरवरी में किर्गिस्तान से लगती सीमा के निकट 11 आतंकवादियों को मार गिराया था। दूसरी ओर मानवाधिकार संगठनों का कहना है कि इस क्षेत्र में जारी हिंसा और तनाव के लिए चीन की अपनी ही नीतियां जिम्मेदार हैं। इन संगठनों का आरोप है कि इस्लाम और उईघूर लोगों की संस्कृति और भाषा पर अंकुश लगाने के मकसद से बनाई जाने वाली चीन की नीतियां ही इस समुदाय की हिंसक प्रतिक्रिया का कारण है, हालांकि चीन सरकार इन आरोपों का खंडन करती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You