कम लागत पर मिथेनॉल निर्माण से सस्ते ईंधन की उम्मीद

  • कम लागत पर मिथेनॉल निर्माण से सस्ते ईंधन की उम्मीद
You Are HereInternational
Monday, March 03, 2014-8:53 PM

न्यूयार्क: कार्बन डाईऑक्साइड को मिथेनॉल में परिवर्तित करने का स्वच्छ और सस्ता तरीका वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ निकाला है। प्लास्टिक, चिपकने वाले पदार्थ और विलायकों के निमार्ण में प्रयोग होने वाले प्रमुख कारक मिथेनॉल को भविष्य के संभावित सस्ते ईंधन के रूप में देखा जा रहा है। वैज्ञानिकों ने एक नए निकेल-गैलियम कैटालिस्ट की खोज की है, जो हाइड्रोजन और कार्बन डाईआक्साइड को पारंपरिक उत्प्रेरक की तुलना में कुछ उत्पादों के साथ मिथेनॉल में परिवर्तित कर सकता है।

अमेरिका के एसएलएसी नेशनल एक्सेलेटर लेबोरेटरी के वैज्ञानिक फेलिक्स स्टड ने कहा, ‘‘मिथेनॉल का निर्माण बड़ी-बड़ी फैक्ट्री में बेहद उच्च ताप पर प्राकृतिक गैस से हाईड्रोजन, कार्बन डाईऑक्साइड और कार्बन मोनोक्साइड लेकर किया जाता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम ऐसे पदार्थों की खोज कर रहे हैं, जो कम ताप पर स्वच्छ पदार्थों के प्रयोग से मिथेनॉल का निर्माण करे और कम कार्बन मोनोक्साईड उत्सर्जित करे।’’ इसी क्रम में वैज्ञानिकों ने निकेल-गैलियम नामक यौगिक को संभावित विकल्प के रूप में पाया और टेक्निकल यूनिवर्सिटी ऑफ डेनमार्क के शोधकर्ताओं के समूह नइस पर शोध करना शुरू किया।

शोधकर्त्ताओं ने जांच में पाया कि निकेल-गैलियम पारंपरिक तांबा-जिंक-एल्युमिनियम की तुलना में अधिक मिथेनॉल उत्पन्न कर सकता है और अपेक्षाकृत कम कार्बन मोनोक्साइड उत्पन्न करता है। टेक्निकल यूनिवर्सिटी ऑफ डेनमार्क के आईबी चोरकेनडोर्फ ने कहा, ‘‘आप मिथेनॉल बनाना चाहते हैं, न कि कार्बन मोनोक्साइड। आप एक ऐसा उत्प्रेरक चाहते हैं जो विघटित न हो। जांच में पता चला है कि निकेल-गैलियम इस दृष्टिकोण से बिल्कुल स्थित यौगिक है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You