अरे ये क्या! खूबसूरत बनने के साइड इफैक्टस

  • अरे ये क्या! खूबसूरत बनने के साइड इफैक्टस
You Are HereInternational
Friday, March 07, 2014-4:33 PM

एसेक्स: कहते हैं कि शौंक का कोई मूल्य नहीं होता और यह बात भी सब जानते ही हैं कि महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले सजना- संवरना ज्यादा अच्छा लगता है। वह लाखों रुपए सर्जरी पर खर्च करने पर भी नहीं कतराती, लेकिन कई बार सर्जरी के कई साइड इफैक्ट्स भी सामने आ जाते हैं, जो सुंदर बनाने के बजाए महिलाओं को कुरूप बना देते हैं।

एसेक्स की 36 वर्षीय एलिजाबेथ कुक ने भी सुंदर दिखने के लिए सर्जरी का ही सहारा लिया। दरअसल कुक की आई ब्रो और पलकों पर प्राकृतिक रूप से कम बाल थे, इसलिए कुक हमेशा अपने आंखों पर नकली आई ब्रो और बड़ी पलकों को लगवाकर कहीं भी आती-जाती थी।

लगातार सालों से ऐसा करने पर कुक की बची कुची पलकें और आई ब्रो भी उड़ गए, जिसके बाद उसने सर्जरी का सहारा लिया। डॉक्टरों की सलाह से कुक ने सिर के कुछ बालों से आई ब्रो और पलकें ट्रांसप्लांट करवाने की सोची। डॉक्टरों ने कुक के सिर के पीछे के बालों में से 400 बाल निकाल कर उसे सही आकार देकर कुक के आई ब्रो और पलकों पर ट्रांसप्लांट कर दिया। इस ऑपरेशन के लिए कुक ने मेंनचेस्टर के जाने माने सर्जन को आठ हजार पाउंड दिए।

कुक के ट्रांसप्लांट किए गए बाल सिर के हैं, इसलिए वह बालों की रफ्तार से ही बढ़ते हैं। अब कुक को इस बात का ध्यान देना होता है कि वह अपनी नए भौंए और पलकों को समय-समय पर ट्रिम कराती हे। ऑपरेशन कराने के बाद कुक के चेहरे पर उनके बाल नकली तो लग रहें हैं, लेकिन सर्जरी के बाद मोटे आई ब्रो और पलकें पाकर वह इससे काफी खुश और संतुष्ट हैं।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You