भारत-पाक वार्ता में जल विवाद शामिल करने का आग्रह

  • भारत-पाक वार्ता में जल विवाद शामिल करने का आग्रह
You Are HereInternational
Wednesday, March 12, 2014-12:36 AM

इस्लामाबाद: सिंधु नदी का मुद्दा एक बार फिर पाकिस्तानी संसद में उठा। सीनेट ने ध्वनिमत से एक प्रस्ताव पारित कर भारत के साथ होने वाली किसी भी वार्ता में सिंधु नदी जल विवाद को शामिल करने के लिए कहा है। डॉन के मुताबिक, पाकिस्तान मुस्लिम लीग- कायद-ए-आजम (पीएमएल-क्यू) के सीनेटर मुशाहिद हुसैन ने सोमवार को सरकार से भारत को सबसे पसंदीदा राष्ट्र (एमएफएन) का दर्जा देने में हड़बड़ी नहीं दिखाने के लिए कहा है और इस वर्ष नई दिल्ली में नई सरकार के गठन होने तक इंतजार करने को कहा।

प्रस्ताव पेश करने वाली पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) की सीनेटर सुघरा इमाम ने कहा, ‘‘जल संसाधन का दबाव झेलने वाले देशों में पाकिस्तान 31वें नंबर पर है और इसलिए भारत पर जल संधियों का उल्लंघन करने से रोकने के लिए कदम उठाने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यदि इस मुद्दे को बातचीत के एजेंडे में शामिल नहीं किया गया तो यह झगड़े का रूप अख्तियार कर सकता है।’’
 
पीपीपी की सीनेटर ने कहा कि नदियों में पानी छोडऩे के समय पर अभी पूरी तरह से भारत का नियंत्रण है और यह मामला पाकिस्तान में खाद्य सुरक्षा के लिहाज से अत्यंत महत्वपूर्ण है। ताल्हा महमूद ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से भारत को जल संधियों का उल्लंघन करने से रोकने में मदद का आह्वान किया। सदन के नेता के यह सूचित करने के बावजूद कि सरकार इस मुद्दे को बातचीत के एजेंडे में शामिल कर चुकी है प्रस्ताव पारित किया गया।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You