पति को दूसरे निकाह के लिए पत्नी की मंजूरी की जरूरत नहीं: पाक ईकाई

  • पति को दूसरे निकाह के लिए पत्नी की मंजूरी की जरूरत नहीं: पाक ईकाई
You Are HerePakistan
Wednesday, March 12, 2014-6:32 AM

इस्लामाबाद : धार्मिक मामलों पर सरकार को कानूनी सलाह देने वाली पाकिस्तान की एक संवैधानिक ईकाई ने कहा है कि एक व्यक्ति को दूसरे निकाह के लिए अपनी पत्नी की मंजूरी लेने की जरूरत नहीं है। इस आदेश की सोशल मीडिया पर त्वरित आक्रोशित प्रतिक्रिया हुई है । इस्लामी विचारधारा परिषद (सीआईआई) ने कहा है कि पहली पत्नी की मौजूदगी में किसी व्यक्ति द्वारा दूसरी शादी के संबंध में पाकिस्तानी कानून धार्मिक सिद्धांतों के खिलाफ हैं। 

परिषद के अध्यक्ष मौलाना मोहम्मद खान शीरानी ने इस मुद्दे परबैठक के बाद कल संवाददाताओं से कहा, ‘‘शरिया किसी व्यक्ति को एक से अधिक पत्नी रखने की अनुमति देता है और हम मांग करते हैं कि सरकार को कानून में संशोधन करना चाहिए।’’ शीरानी ने कहा कि दूसरी शादी करने के लिए अपनी पत्नी से मंजूरी लेना जरूरी नहीं है। परिषद की इस्लामाबाद में बैठक हुई और इसमें पाकिस्तान में मौजूदा पारिवारिक कानूनों का विश्लेषण किया गया। 
 
लेकिन सीआईआई के इस कदम की व्यापक आलोचना हुई है और पुरूषों ने भी सोशल मीडिया पर इसके खिलाफ राय जाहिर की है।   तेजाबी हमलों का शिकार महिलाओं पर फिल्म बनाने वाली पाकिस्तानी वृतचित्र निर्माता शरमीन ओबैद चिनाय ने ट्विट कर कटाक्ष किया, ‘‘सीआईआई फिर से हमें खुद पर गर्व करवा रही है। दूसरी शादी के लिए पत्नी की मंजूरी की जरूरत नहीं।’’ पाकिस्तान के प्रमुख विश्लेषक जाहिद हुसैन ने कहा, ‘‘लगता है कि तालिबान पहले ही कब्जा जमा चुके हैं। दूसरी शादी के लिए पत्नी की मंजूरी जरूरी नहीं।’’ कार्यकर्ता निलोफर अफरीदी काजी कहती हैं, ‘‘ सीआईआई महिलाओं को निहत्था कर रही है। दिन ब दिन पाकिस्तान बेहतर हो रहा है। क्यों नहीं हम अपने पर एक बम गिरा लेते।’’
अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You