पश्चिमी जगत भारत को कोयले के उपयोग से नहीं रोक सकता: सुनीता

  • पश्चिमी जगत भारत को कोयले के उपयोग से नहीं रोक सकता: सुनीता
You Are HereInternational
Thursday, March 13, 2014-6:45 PM

मेलबर्न: मशहूर पर्यावरणविद् सुनीता नारायण ने कहा है कि पश्चिमी जगत भारत को कोयले का उपयोग करने से नहीं रोक सकता, जबकि वे खुद इसके आदी हैं। सेंटर फॉर साइंस एंड इनवायरमेंट की महानिदेशक सुनीता ने कहा, ‘‘आपको इस तरह के पाखंड से निजात पानी है। आप मुझे नहीं बता सकते कि भारत कोयले का इस्तेमाल नहीं कर सकता जबकि आस्ट्रेलिया, जर्मनी, अमेरिका और दूसरे देश अब भी कोयले के इस्तेमाल के आदी हैं।’’

उन्होंने मेलबर्न विश्वविद्यालय स्थित आस्ट्रेलिया भारतीय संस्थान में कल कहा, ‘‘आपने वह बदलाव नहीं किया है, जिसके बारे में आप शेष दुनिया को पाठ पढ़ा रहे हैं।’’सुनीता ने कहा कि भारत के लिए कोयला सबसे स्थिर और एकमात्र सस्ता विकल्प है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं परमाणु उर्जा के खिलाफ नहीं हूं। परंतु हम जिस पैमाने को देख रहे हैं उस पर परमाणु उर्जा फिट नहीं बैठती। यह बहुत महंगी है और इसके उत्पादन में काफी समय लगता है।’’ सुनीता ने कहा, ‘‘कोयला एक वास्तविकता है और तेजी से गर्म होते विश्व में कोयले को संभाले रखना भी एक चुनौती है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You