देखिए, एक पॉलीथीन बैग ने कैसे बचाई बच्ची की जान

  • देखिए, एक पॉलीथीन बैग ने कैसे बचाई बच्ची की जान
You Are HereInternational
Sunday, March 23, 2014-4:59 PM

नई दिल्ली: वैसे तो बच्चे का मां के गर्भ में रहने का सही समय 9 माह है, लेकिन कई बार कुछ ऐसी परिस्थितियां आ जाती है कि बच्चे का जन्म समय से पहले हो जाता है। समय से पहले होने से वह शरीरिक तौर पर कमजोर होते है। लूसिया भी उन बच्चों में से एक थी, वह महज 27 हफ्ते में ही पैदा हो गई थी, जिस कारण उसका ठीक से विकास भी नहीं हो सका था।

लूसिया को सांस लेने में तकलीफ थी। इतना ही नहीं, उसे पैदा होने पर इतनी ठंड लग रही थी कि डॉक्टरों ने उसे मशीनों की मदद से गर्माहट पहुंचाने का फैसला किया, लेकिन उसे बचाने की हर कोशिश नाकाम हो रही थी।

बच्ची की स्थिति ऐसी हो गई थी कि डॉक्टरों को मजबूरन बच्ची को सैंडविच बैग में डालना पड़ा। पॉलीथीन बैग में डालते ही बच्ची के शरीर का तापमान ठीक हो गया। डॉक्टरों ने इसके बाद बच्ची की सर्जरी भी की। अब वह बिल्कुल ठीक है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You