मलेशिया विमान: एक बार फिर दिखी आशा की किरण

  • मलेशिया विमान: एक बार फिर दिखी आशा की किरण
You Are HereInternational
Sunday, March 23, 2014-2:19 PM

पर्थ: आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी अबोट ने कहा है कि चीन को दक्षिण हिन्द महासागर में उपग्रह से मिली नई तस्वीरों से मलेशिया के लापता विमान की खोज की दिशा में नई उम्मीद जगी है।

अबोट ने पापु न्यू गुनिया में आज पत्रकारों से कहा कि चीन को उपग्रह से मिली तस्वीरों में एक तस्वीर दक्षिणी हिन्द महासागर में तैरती हुई कोई बडी वस्तु है जो हाल में आस्ट्रेलिया को मिले चित्रों से मिलती-जुलती हैं। उन्होंने कहा, "हमें कुछ ठोस आधार मिले हैं जो विमान की खोज में खासा महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं।"

उन्होंने उम्मीद व्यक्त की कि 8 मार्च को कुआलालम्पुर से चीन के बीजिंग के लिए उड़ान भरने वाले मलेशियाई एयरलाइंस के एम.एच.370 विमान के बारे में कुछ सुराग हाथ लग सकेगा। आस्ट्रेलिया समुद्री सुरक्षा प्राधिकरण ने कहा कि चीन को मिले नये चित्रों के बाद लापता विमान की खोज में आज आठ विमान दो इलाकों में 59 हजार स्क्वायर किलोमीटर क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाएंगे।

मलेशिया ने कल कहा था कि चीनी उपग्रहों से दक्षिणी कोरिडोर में लापता विमान एम. एच. 370 के संदिग्ध मलबे के तैरते चित्र प्राप्त होने के बाद चीन ने जलयानों को खोज के लिए भेज दिया है। मलेशिया के कार्यवाहक रक्षा एवं परिवहन मंत्री हिशामुद्दीन हुसैन ने पत्रकारों को बताया था कि चीनी जलयान दक्षिणी कोरिडोर की ओर रवाना हो गए हैं। मंत्रालय ने एक बयान में कहा था कि इससे पूर्व मलबे के तैरते हुए टुकड़े का आकार 22 गुना 30 मीटर बताया गया था जो सही नहीं है। इसका वास्तविक आकार 22.5 गुना 13 मीटर है।

गौरतलब है कि गत 8 मार्च को चालक दल के 12 सदस्यों सहित 239 लोगों को कुआलालम्पुर से बीजिंग की ओर उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही यह विमान लापता हो गया था। पिछले 13 दिन से लापता विमान की तलाश पूरी मुस्तैदी से की जा रही है। फिलहाल उत्तरी और दक्षिणी दोनों कारिडोर में इसकी तलाश में 18 जहाज, 29 विमान और छह हेलीकाप्टर तैनात हैं, लेकिन अभी तक कोई ठोस सुराग हाथ नहीं लगा है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You