‘‘2008 में काबुल में भारतीय दूतावास पर हमले को ISI ने दी थी मंजूरी’’

  • ‘‘2008 में काबुल में भारतीय दूतावास पर हमले को ISI ने दी थी मंजूरी’’
You Are HereNational
Sunday, March 23, 2014-3:43 PM

वॉशिंगटन: काबुल में भारतीय दूतावास पर 2008 में हुए भीषण आतंकवादी हमले को पाकिस्तानी आईएसआई ने मंजूरी दी थी और इसके वरिष्ठ अधिकारियों ने इसकी निगरानी की थी। एक नई किताब में यह दावा किया गया है। 7 जुलाई 2008 को काबुल में भारतीय दूतावास पर हुए आत्मघाती कार बम हमले में 58 लोग मारे गए थे, जिनमें दो शीर्ष भारतीय अधिकारी भी शामिल थे। हमले में 140 से अधिक लोग घायल हुए थे।

वरिष्ठ पत्रकार कारलौटे गौल ने अपनी नई किताब ‘‘गलत दुश्मन: अफगानिस्तान में अमेरिका 2001-2004’’ में यह खुलासा किया है जो अगले माह बाजार में आ रही है। गौल ने लिखा है कि फोन काल्स को बीच में पकड़ते हुए अग्रिम खुफिया सूचनाएं हासिल करने वाला तत्कालीन बुश प्रशासन घातक हमले को नहीं रोक सका।

उल्लेखनीय है कि गौल 9/11 के आतंकवादी हमले के बाद अफगानिस्तान में जमीनी स्तर पर काम करने वाली एकमात्र पश्चिमी महिला पत्रकार थीं, जिन्होंने दस सालों तक अफपाक संघर्ष को कवर किया। प्रेट्र को उपलब्ध कराई गई किताब में लिखा गया है कि काबुल में भारतीय दूतावास पर हमले से ‘‘इस हमले की साजिश और इसे अंजाम देने में आईएसआई की संलिप्तता के स्पष्ट सबूत सामने आते हैं।’’
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You