...तो इसलिए बढ़ाई जा रही है भारत-नेपाल सीमा पर सुरक्षा

  • ...तो इसलिए बढ़ाई जा रही है भारत-नेपाल सीमा पर सुरक्षा
You Are HereInternational
Tuesday, March 25, 2014-7:24 PM

काठमांडू: नेपाल और भारत के अधिकारियों ने दोनों देशों के बीच 1,850 किलोमीटर लंबी सीमा पर निगरानी बढ़ाने पर सहमति जताई है। अप्रैल-मई महीने में भारत में होने जा रहे आम चुनाव के दौरान आपराधिक तत्वों की आवाजारी रोकने की गरज से दोनों देशों के बीच मौजूद खुली सीमा पर सुरक्षा कड़ी करने का फैसला किया है।

सोमवार को उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर के जिला दंडाधिकारी द्वारा आयोजित बैठक में दोनों पक्षों ने सीमा पर सुरक्षा बढ़ाने के लिए आठ सूत्रीय समझौते पर दस्तखत किए। इसका उद्देश्य चुनाव के दौरान शांति व्यवस्था बनाए रखना है। सीमा पर सुरक्षा बढ़ाने के अलावा दोनों पक्ष विभिन्न प्रवेश बिंदुओं पर तस्करी पर भी सख्ती बरतने पर सहमति जताई। नेपाली अधिकारियों ने कहा कि बैठक में वाहनों की जांच, मादक पदार्थों की तस्करी और मानव तस्करी एवं अन्य चीजों पर रोकथाम का फैसला लिया गया।

भारत और नेपाल के बीच 1850 किलोमीटर लंबी सीमा पर दोनों देशों के नागरिकों को बेरोकटोक आवाजाही की अनुमति है। सुरक्षा, तस्करी और खास तौर से असामाजिक तत्वों की आवाजाही के लिहाज से इसे अत्यंत नाजुक माना जाता है। नेपाल पुलिस के अधिकारी और कपिल वस्तु जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रबिंद्र शर्मा ने कहा, ‘‘हम मानव तस्करी रोकने पर सहमत हुए हैं।

इसके अलावा सीमावर्ती इलाकों में हथियारों के तस्करों की गतिविधि रोकने व अन्य आपराधिक हरकतों पर अंकुश लगाने पर सहमति बनी है। तत्काल कार्रवाई के लिए हम एक दूसरे से सूचनाओं का साझा करेंगे।’’ चुनाव में कथित रूप से राजनीतिक दल दोनों तरफ के अपराधियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसी स्थिति में सुरक्षा एजेंसियों के लिए शांति एवं व्यवस्था कायम रखना एक चुनौती होती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You