नहीं देखा गया अभी तक ऐसा ग्रह

  • नहीं देखा गया अभी तक ऐसा ग्रह
You Are HereInternational
Thursday, March 27, 2014-9:04 PM

वाशिंगटन: क्या आप हमारे सौर मंडल के बाहरी किनारे से वाकिफ हैं? खगोलविदों ने एक नया अत्यंत दूरस्थ सदस्य की पहचान की है जो अब जानकारी में लाई जा रही है। इस दूरस्थ ग्रह को ‘2012 वीपी 113’ कहा गया है और इसके सौर मंडल के ज्ञात किनारे के परे होने का पता चला है। इस खोज से एक विशाल ग्रह की मौजूदगी का भी संकेत मिलता है। यह ग्रह पृथ्वी से आकार में 10 गुना बड़ा है। ऐसा ग्रह अभी तक नहीं देखा गया है।

कैरेंगिए इंस्टीच्यूट फॉर साइंसेस के स्कॉट शेपर्ड ने कहा, ‘‘यह असामान्य परिणाम है जो हमारे सौर मंडल के बारे में हमारी समझदारी को पुन: परिभाषित करेगा।’’ ज्ञात सौर मंडल को तीन हिस्सों में बांटा जा सकता है। पृथ्वी जैसे चट्टानी ग्रह सूर्य के करीब हैं, गैसीय विशाल ग्रह दूर हैं और कुइपर बेल्ट के जमे हुए पिंड नेपचुन की कक्षा के बाहर हैं।

इससे आगे सौर प्रणाली के किनारे पर केवल एक ही पिंड ‘सेडना’ की मौजूदगी पूर्व में ज्ञात थी। यही अंतिम कक्षा मानी जाती रही। लेकिन ‘2012 वीपी 113’ की नई खोज से सेडना से भी आगे एक कक्ष का पता चला है और यह सौर प्रणाली का सबसे दूरस्थ ग्रह है। शेपर्ड ने व्याख्या की, ‘‘सेडेना से भी आगे ये दूरस्थ आंतरिक ओओर्ट धुंधले पिंड और ‘2012 वीपी 113’ की तलाश जारी रहनी चाहिए, क्योंकि ये हमें हमारी सौर प्रणाली के पैदा होने और विकसित होने के बारे में बहुत कुछ बताते हैं।’’ इस खोल के लिए शेपर्ड और जेमिनी आब्जर्वेट्री के चाडविक ट्रुजिल्लो ने नई डार्क एनर्ज कैमरा (डीईकैम) का इस्तेमाल किया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You