एक ही नाम रटने के लिए तोते को दी हैवानियत भरी यातनाएं

  • एक ही नाम रटने के लिए तोते को दी हैवानियत भरी यातनाएं
You Are HereInternational
Tuesday, April 01, 2014-4:48 PM

न्यूयॉर्कः  लोग अपने शौंक के लिए कई तरह के जानवरों और पक्षियों को पालते हैं। पक्षियों में लोग सबसे अधिक तोते को पालते हैं क्योंकि यह ही एक ऐसा पक्षी है जो इंसानी भाषा बोल सकता हैं। कुछ ऐसा ही था कॉन्गो अफ्रीकन ग्रे प्रजाति का यह तोता, लेकिन उसे इंसानी भाषा बोलनी काफी मंहगा पड़ा जिसके लिए उसे निर्दयी भरी सजा दी गई।

दरअसल सालों पहले यह तोता अपने मालकिन के द्वारा लाया घर में लाया गया। मालकिन से प्यार होने की वजह से वह लगातार उसका नाम रटता रहता था और उसकी मालकिन भी उसे प्यार करती थी, लेकिन अचानक मालकिन की मौत के बाद वह बिल्कुल अकेला पढ़ गया। कुछ देर बाद मालकिन के पति ने दूसरी शादी कर ली वह अपनी पत्नी के साथ उसी घर में रहने लगा। दूसरी पत्नी के आने पर तोते पर कोई फर्क नहीं पड़ा। वह हमेशा की तरह घर की पहली मालकिन का नाम रटते रहता था।

लेकिन यह बात दूसरी मालकिन को बिल्कुल पसंद नहीं आई। उसने तोते को गैराज में डाल दिया और उसे वहां एक पिंजड़े में बंद कर दिया। वह तोते को जरूरत से भी कम खाना देती थी। मालकिन ने तोते को तीन साल तक इसी हालत में रखा। हालत इस कदर खराब हो गई कि उसके सारे पंख झड़ गए और सेहत काफी खराब हो गई। इस बात का पता जब 'ऐनिमल रेस्‍क्यू फांउडेशन' को पता चला तो उन लोगों ने उसे वहां से निकाला।

अमेरिका में उसका इलाज कर रही डॉक्टर हेन्ले का कहना है कि तोता बहुत सहमा और डरा हुआ था। उसे बोलने और खाने-पीने में काफी दिक्कत हो रही थी। डिप्रेशन से निकलने के लिए के लिए उसे दवाइयां दी जा रहीं हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You