अफगानिस्तान में 950 से ज्यादा मतदान केंद्र बंद

  • अफगानिस्तान में 950 से ज्यादा मतदान केंद्र बंद
You Are HereInternational
Saturday, April 05, 2014-10:11 PM

काबुल: अफगानिस्तान में सुरक्षा कारणों से कुल 959 मतदान केंद्रों को बंद कर दिया गया है। शनिवार को देश में नए राष्ट्रपति और प्रांतीय परिषदों के लिए मतदान कराया जा रहा है। स्वतंत्र चुनाव आयोग (आईईसी) के अध्यक्ष अहमद यूसुफ नूरिस्तानी ने कहा, ‘‘मतदान के रोज कुल 211 केंद्रों को दुश्मनों के हमले और संघर्ष के कारण बंद किया गया।’’

अफगानिस्तान में शनिवार सुबह अगले पांच वर्षों के लिए नए राष्ट्रपति का चुनाव करने के लिए मतदान शुरू हुआ। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, लोकतंत्र स्थापना के बाद देश में पहली बार मतदान के जरिए सत्ता का हस्तांतरण होगा। नूरिस्तानी के मुताबिक, देश के 34 प्रांतों में मतदान करने के लिए 6,212 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। सुरक्षा कारणों और जालसाजी व अनियमितता रोकने के लिए आईईसी ने चुनाव से पहले ही 748 मतदान केंद्रों को बंद कर दिया था।

सरकार से लड़ रहे तालिबान आतंकवादियों ने चुनाव प्रक्रिया में बाधा डालने की कोशिश कर रहे हैं। तालिबान ने चुनाव प्रक्रिया को ‘अफगानिस्तान पर कब्जा जमाए रखने की अमेरिकी साजिश करार दिया है।’ तालिबान ने लोगों से चुनाव का बहिष्कार करने की अपील की है। नूरिस्तानी ने कहा कि पश्चिमी प्रांत बाडघीस में हुए एक हमले में एक मतदाता की मौत हो गई जबकि उत्तरी कुदुज प्रांत में आतंकवादियों के हमले में चार लोग घायल हो गए।

उन्होंने कहा कि एक घायल की हालत अभी तक चिंताजनक है। नूरिस्तानी ने कहा कि काबुल और अन्य प्रांतों में जहां मतपत्रों की कमी बताई गई थी वहां अतिरिक्त मतपत्र भेजे गए हैं। इस चुनाव में 1.2 करोड़ से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे, जिनमें 35 फीसदी महिलाएं शामिल हैं। राष्ट्रपति चुनाव के लिए शिकायत की अवधि 7 अप्रैल से 27 अप्रैल होगी। प्रारंभिक परिणाम 24 अप्रैल को और पूर्ण परिणाम मई के मध्य में जारी किया जाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You