उथल-पुथल भरा रहा साल 2017,  इन घटनाक्रमों से हिल गई दुनिया

You Are HereInternational
Tuesday, December 26, 2017-5:37 PM

 सिडनीः साल 2017 पूरी दुनिया के लिए भारी उथल-पुथल भरा रहा । खास कर वैश्विक राजनीति में आए बड़े भूचालों से दुनिया हिल कर रह गई। हिलेरी क्लिंटन को हराकर इस साल डोनाल्ड ट्रंप का अमरीकी राष्ट्रपति बनना दुनिया के लिए सबसे ज्यादा अविश्वसनीय था, क्योंकि किसी ने भी शायद सोचा नहीं होगा कि एक कट्टर छवि वाले शख्स को अमरीका की जनता चुन  भी सकती है।

वहीं ब्रिटेन का यूरोप से अलग होना और डेविड केमरुन का प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देना हैरानी भरा कदम था। मार्गरेट थैचर के बाद थेरेसा मे ब्रिटेन की दूसरी महिला प्रधानमंत्री बनी तो वहीं, एंजेला मार्केल ने चौथी बार जर्मनी चांसलर के रूप में चुनाव जीता। दुनिया ने इस साल कई आतंकि हमले भी झेले, जिसमें मैनचेस्टर, लास वेगास और सोमालिया का नरंसहार सबसे ज्यादा भयवाह था। रोहिंग्या संकट से लेकर कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव जैसे तमाम बड़ी घटनाओं से भरा रहा साल 2017।

अमरीका में ट्रंप दौर की शुरुआत
अमरीका में ट्रंप दौर की शुरुआत ट्रंप युग के साथ हुई।  रिपब्लिकन बिलेनियर 70 साल के डोनाल्ड ट्रंप ने हिलेरी क्लिंटन को हराकर 20 जनवरी को अमरीका के 45वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। अपने आक्रमक चुनावी रैलियों और 'अमरीका फर्स्ट' का नारा देकर राष्ट्रपति बने ट्रंप ने आते ही बराक ओबामा सरकार की पुरानी नीतियों को बदल दिया, जिसमें कई इंटरनैशल एग्रीमेंट भी शामिल थे। ट्रंप ने आते ही जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौता को मानने से इंकार कर दिया और उसके बाद फ्री ट्रैड, इमीग्रेशन यूनेस्को और ईरान के साथ न्यूक्लियर डील को लेकर फिर से विचार करने और हटाने का मन बनाया। 
PunjabKesari
अमरीका -नॉर्थ कोरिया विवाद
इसके अलावा नॉर्थ कोरिया के साथ इस साल अमरीका सबसे ज्यादा उलझा रहा और साल के अंत में येरुशलम को इस्राइल की राजधानी के रूप में घोषित कर पूरे मिडिल ईस्ट से लड़ाई मौल ले ली जैसी तमाम घटनाओं से डोनाल्ड इस साल सबसे ज्यादा चर्चा में बने रहे। 

PunjabKesari ब्रैक्जिट: ब्रिटेन का यूरोप से अलग होना
ब्रिटेन का यूरोप से अलग होना ब्रिटेन ने इस साल के जून में यूरोप से अलग होकर पूरी दुनिया में हड़कंप मचा दी। ब्रैक्जिट के लिए ब्रिटेन में जनमत संग्रह हुआ, जिसमें 51.9 प्रतिशत लोगों ने यूरोप से अलग होने के लिए वोट किया, जबकि 48.1 प्रतिशत ने ईयू के साथ रहने का समर्थन किया था। ब्रिटेन के लोगों का मानना था कि यूरोपीय संघ से ब्रिटेन को आर्थिक नुकसान हो रहा है। उनके अनुसार, ब्रिटेन पर ईयू अपना नियंत्रण बनाना चाहता है। ब्रैक्जिट के बाद पीएम डेविड केमरन को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। 

PunjabKesari

रोहिंग्या मुद्दा बना सदी का सबसे बड़ा मानवीय संकट
रोहिंग्या मुद्दा इस साल सदी का सबसे बड़ा मानवीय संकट बन कर उभरा।  म्यांमार में इस साल अगस्त से शुरू हुआ अल्पसंख्यक रोहिंग्याओं मुसलमानों का पलायन अभी भी जारी है। म्यांमार आर्मी द्वारा किए अत्याचार के बाद लाखों रोहिंग्या मुसलमानों को बांग्लादेश में शरण लेनी पड़ रही है। अब तक 6,55,000 से ज्यादा रोहिंग्याओं को पलायन होने के लिए मजबूर होना पड़ा है और सैकड़ों लोगों को मार कर दफना दिया गया है। रोहिंग्या संकट दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता मानवीय सकंट माना जा रहा। इसके लिए दुनिया भर के कई देशों ने म्यांमार की निंदा की है।

PunjabKesari

जिम्बाब्वे में  मुगाबे राज का अंत 
जिम्बाब्वे में आखिर रॉबर्ट मुगाबे राज का अंत हो गया। अफ्रीकी देश जिम्बाब्वे में 37 साल से राज कर रहे 93 साल के रॉबर्ट मुगाबे को आखिरकार सेना की दखल के बाद  जबरदस्ती सत्ता छोड़नी पड़ी। सेना ने 16 नवंबर की रात को हरारे में रॉबर्ट मुगाबे और उनकी पत्नी ग्रेसी मुगाबे को उनके घर में नजरबंद कर दिया। मुगाबे पर जिम्बाब्वे के संविधान के मुताबिक गंभीर दुर्व्यवहार, नाकाबिलियत और संविधान की अनदेखी करने की आरोप लगा था। सेना ने कुछ दिन के लिए सरकार की सारी शक्तियां अपने हाथ में लेने के बाद जिम्बाब्वे की सत्ता को एमिर्सन मंगागवे के हाथों सौंप दी।

PunjabKesari

किम जोंग उन ने किया हैरान
किम जोंग उन ने अपने मिसाइल टेस्ट से दुनिया को किया हैरान इस साल दुनिया को अगर किसी ने सबसे ज्यादा डराया तो वो है नॉर्थ कोरिया। इस साल नॉर्थ कोरिया ने कुल 14 मिसाइलों का परिक्षण किया, जिसमें से एक विनाषकारी हाइड्रोजन बम भी शामिल है। नॉर्थ कोरिया की वजह से ना सिर्फ कोरियाई प्रायद्वीप में बल्कि पुरी दुनिया में तनाव पैदा हुआ और अमरीका को प्योगंयांग के खिलाफ रोज नए एक्शन लेने पड़े। नॉर्थ कोरिया पर कई प्रतिबंध भी लगे, लेकिन किम जोग उन पर इसका कोई प्रभाव नहीं दिखा। इस बार नॉर्थ कोरिया ने तो यहां तक दावा किया कि उनके पास अमेरिका के तट पर पहुंचने वाली मिसाइल भी है। हाल ही में 29 नवंबर को जापान सागर के ऊपर एक और मिसाइल लॉन्च कर नॉर्थ कोरिया ने साबित कर दिया कि इस क्षेत्र में तनाव अभी जारी रहेगा। 

PunjabKesari

मैनचस्टर से लेकर सोमालिया तक आतंकी नरसंहार
मैनचस्टर से लेकर सोमालिया तक आतंकी नरसंहार ने वैश्विक मंच को आतंकवाद के मुद्दे पर सोचने के लिए मजबूर कर दिया। दुनिया ने इस साल कई आतंकी हमलों को झेला, लेकिन लंदन के मैनचेस्टर, अमरीका के लास वेगास और सोमालिया के मोगादिशू की घटना सबसे अधिक भयवाह थी। मई में ब्रिटेन के मैनचेस्टर शहर में एक पॉप कंसर्ट के बाद हुए जबरदस्त धमाके में 22 की मौत और 60 लोग घायल हो गए। अक्तूबर में अमरीका के लास वेगास में एक बंदूकधारी व्यक्ति ने मांडले बे रिसॉर्ट मे कसीनो पर हमला कर 58 लोगों को मार दिया और करीब 400 लोगों को घायल कर दिया। अफ्रीकी मुल्क सोमालिया की राजधानी मोगादिशू में अक्तूबर में बहुत ही भयनाक आतंकी हमला हुआ, जिसमें 500 से ज्यादा लोगों की मौत और 300 से ज्यादा घायल हो गए। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन अल-शबाब ने ली थी।

PunjabKesari

 #MeToo की गूंजी आवाज
यौन उत्पीड़न के खिलाफ #MeToo की एक ग्लोबल वॉइस हॉलीवुड अभिनेत्री एलीसा मिलाने ने सबसे पहले ट्विटर पर हॉलीवुड फिल्म निर्माता हार्वे वीनस्टीन पर अपने यौन-शोषण का आरोप लगाया। उन्होंने एक ट्वीट के जरिए लोगों को मी टू के साथ अपने बुरे अनुभव साझा करने के लिए कहा। साथ में उन्होंने लिखा कि अगर आपका भी यौन-शोषण हुआ है या आप पर यौन हमला हुआ है, तो जवाब में "हैशटैग मी टू" लिखें। सोशल मीडिया पर इस अभियान को जबरदस्त रिस्पोंस मिला और दुनियाभर की करोड़ों महिलाओं ने अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न के लेकर खुलासा किया। इस अभियान में दुनियाभर की कई सेलिब्रिटिज ने हिस्सा लिया, जिसमें कई बड़े लोगों के चिट्ठे खुल गए।
PunjabKesari

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You