काबुल में महिलाओं ने पहली बार दिखाई ये हिम्मत, मिल रही धमकियां

You Are HerePakistan
Thursday, November 03, 2016-12:02 PM

काबुल: महिलाओं के लिए काबुल में पहली बार एक अनोखा प्रयास किया गया है। इसके अंतर्गत अफगानिस्तान की एक सोसायटी ने महिलाओं के बीच हैल्थ और स्पोर्ट्स के प्रति जागरूकता के स्तर को बढ़ाने के लिए फिटनैस क्लब खोला है। एक न्यूज एजैंसी से हुई बातचीत में तहमीना माहिद नूरिस्तानी ने कहा 'यह मेरे जीवन का लक्ष्य था कि इस क्लब को शुरू करूं। ब्लू मून फिटनेस क्लब मेरी ही जैसी महिलाओं के लिए हैं। इसे खोलने में मुझे 20 हजार डॉलर का खर्च आया।'

नूरिस्तानी ने कहा 'अफगानिस्तान एक रूढ़ीवादी समाज है। मगर इस चुनौती के बीच मैंने दो महीने पहले यह क्लब शुरू किया है। इस उम्मीद में कि महिलाओं को सशक्त कर सकूं।' अफगानिस्तान में खासकर ग्रामीण इलाकों में लोगों का भरोसा पारंपरिक मूल्यों में हैं। कुछ लोग तो लड़कियों तो स्कूल तक जाने से रोकते हैं। फिटनैस क्लब खुलने से लड़कियों में बहादुरी और हिम्मत को बढ़ाया जा सकेगा।

नूरिस्तानी ने बताया 'इस क्लब को शुरू करने के पीछे मेरा मकसद सिर्फ इतना है कि मैं महिलाओं को घर के बाहर लाऊं। उन्हें क्लब में कसरत करने के लिए प्रोत्साहित कर सकूं।'  क्लब की सदस्य रुख्सार हबीबजई ने कहा 'फिटनैस क्लब से जब कभी भी मैं यहां से वहां जाया करती थी तो मुझे आदमी परेशान किया करते थे। अभद्र भाषा का प्रयोग करते थे। केवल इसलिए कि मैं एक महिला हूं।'

हबीबजई ने बताया 'ऐसा करने वालों में कई ऐसे आदमी भी थे जिन्होंने मुझे फिटनैस क्लब न जाने के लिए भी कहा। धमकाया भी। मगर मैंने तय किया मैं अपनी प्रेक्टिस को जारी रखूंगी।'आपको बता दें कि हबीबजई नेशनल वुमन साइकलिस्ट एसोसिएशन की सदस्य हैं। फिलहाल वो फिटनेस क्लब में योग का अभ्यास करती हैं। हबीबजई ने बताया 'हौंसले और समर्पण के बूते ही हम अफगानी महिलाएं इन पारंपरिक बंधनों को तोड़कर आने आ सकती हैं।'


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You