गोल्डफिश के बारे में सामने आया ये रहस्य!

  • गोल्डफिश के बारे में सामने आया ये रहस्य!
You Are HereInternational
Sunday, August 13, 2017-3:52 PM

लंदन: वैज्ञानिकों ने पता लगा लिया है कि कड़कड़ाती ठंड में जमी हुई झीलों में जिंदा रहने के लिए किस तरह गोल्डफिश एल्कोहल का निर्माण करती है। इसकी यह खासियत इसे इंसानी देखरेख में रहने वाले अत्यधिक अनुकूलन योग्य पालतू जीवों में से एक बनाती है।
PunjabKesari
इंसान और अन्य कशेरूकी जीव ऑक्सीजन के बिना कुछ ही मिनट में मर जाते हैं। फिर भी गोल्डफिश और उनसे संबंधित जंगली जीव जैसे क्रूशियन कार्प कई दिन तक और कई बार कई माह तक बर्फ से ढके तालाबों में ऑक्सीजन मुक्त पानी में जीवित रह जाते हैं। इस दौरान मछलियां हवा की गैरमौजूदगी में लैक्टिक एसिड को एथेनॉल में बदल पाती हैं। यह उनके गलफड़ों से होता हुआ आसपास के पानी में आ जाता है और शरीर में लैक्टिक एसिड हानिकारक निर्माण को रोकता है।  

नॉर्वे के ओस्लो विश्वविद्यालय और ब्रिटेन के लिवरपूल विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने इस बेहद अलग क्षमता के पीछे की आणविक प्रक्रिया का पता लगाया है। इस दल ने दिखाया है कि गोल्डफिश और क्रूशियन कार्प की मांसपेशियों में प्रोटीन का एक नहीं दो सेट होते हैं। इनमें से दूसरा सेट ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में सक्रिय हो जाता है। इससे एक ऐसी तब्दीली होती है, जिससे माइटोकॉण्ड्रिया के बाहर एथेनॉल बनने में मदद मिलती है।  
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You