5 साल से सूखाग्रस्त इस देश में पानी के लिए कत्लेआम, तस्वीरें कर देंगी विचलित

You Are HereInternational
Thursday, May 18, 2017-2:04 PM

नैरोबीः  इस समय पूरी दुनिया पानी के संकट से जूझ रही है और सुनने में आता है कि अगला वर्ल्ड वॉर पानी के लिए हो सकता है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है अफ्रीकी देश केन्या, जो पिछले  5 साल के भीषण संकट से जूझ रहा है। लगभग आधे देश में पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची हुई है। देश के नॉर्दन और पश्चिमी इलाके में तो हालात ऐसे हो गए हैं कि लोग अब जानवरों का सड़ा मांस खाने तक को मजबूर हैं। लोग हो रहे हैं ।

पिछले काफी समय से केन्या के प्रेसिडेंट उहुरु उहुरू केन्याटा सूखे से निपटने के लिए पूरी दुनिया से मदद मांग रहे हैं, क्योंकि सूखे के कारण यहां 20 लाख से अधिक लोगों को खाने-पीने की जरूरत है।  संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन (AFO) की रिपोर्ट के मुताबिक, केन्या का करीब आधा देश पिछले पांच सालों से भीषण सूखे का सामना कर रहा है। वहीं, 2016 में तो पूरे देश में न के बराबर बारिश हुई, जिसके चलते हालात इतने खतरनाक हो चले हैं कि जगह-जगह जानवरों की लाशें दिखाई दे रही हैं।
 खाने की कमी के चलते लोग सड़े जानवरों का मांस खाने तक को मजबूर हैं, जिसके चलते वे गंभीर बीमारियों का भी शिकार हो रहे हैं।

रिफ्ट घाटी की बैरिंगो और लैकिपिआ काउंटी में पानी के लिए लोगों ने हथियार उठा लिए हैं। यहां जबर्दस्त रूप से हिंसा हो रही है। इसके चलते सेना की तैनाती करनी पड़ी है। आर्मी के तैनात होने के बावजूद फरवरी से लेकर अब तक कम से कम 60 लोग मारे जा चुके हैं, लेकिन हिंसा कम होने का नाम नहीं ले रही। पानी के टैंकर देखते ही लोग उसे लूटने के लिए टूट पड़ते हैं।

बीते मार्च महीने में देश के मध्यवर्ती इलाके कोम में बोराना समुदाय के हेर्डर्स और संबुर समुदाय के बीच जानवरों को पानी पिलाने के विवाद में गोलीबारी हो गई थी, जिसमें 10 लोगों की मौत और 3 गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इस घटना के करीब एक हफ्ते पहले ही पश्चिमी बारिंगो के मुकुतानी इलाके में भी पशुओं को पानी पिलाने के विवाद पर ही चरवाहों के बीच झड़प में 13 व्यक्तियों की हत्या कर दी गई थी। वहीं, गोलीबारी में 4 पुलिस वाले भी घायल हो गए थे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You