"धरती पर एक हजार साल बाद जिंदा नहीं रह पाएगा इंसान"

You Are HereEngland
Friday, November 18, 2016-6:02 PM

लंदन:दुनिया के मशहूर साइंटिस्ट स्टीफन हॉकिंग ने ऑक्सफोर्ड यूनियन डिबेटिंग सोसाइटी में स्पीच के दौरान लोगों को आगाह करते हुए कहा कि धरती पर इंसान एक हजार साल बाद जीवित नहीं रह पाएगा। जिंदा रहने के लिए उसे दूसरे ग्रह की तलाश करनी होगी। 


प्रोफेसर हॉकिंग(74)ने कहा कि हमारा ग्रह इतना कमजोर हो चुका है कि आने वाले एक हजार साल के बाद वह जीवन को संभालने में सक्षम नहीं होगा।हॉकिंग ने अपनी स्पीच में यूनिवर्स, आइंस्टीन की थ्योरी, मिथ्स और ईश्वर की भी बात की।प्रोफेसर हॉकिंग ने कहा कि पिछले 50 सालों में ब्रह्माांड की तस्वीर में काफी बदलाव देखने को मिला।मुझे इस बात की खुशी है कि मैंने इसमें थोड़ा योगदान दिया है।"अगर मानव सभ्यता को बने रहना है तो उसे धरती छोड़नी होगी।ये भी हो सकता है कि धरती को खत्म होने में हजार या दस हजार साल लग जाएं। लेकिन इसके पहले हमें स्पेस के किसी दूसरे ग्रह पर शिफ्ट हो जाना चाहिए। 


बता दें कि नासा ने 2009 में स्पेस में धरती जैसे ग्रहों की खोज के लिए अभियान चलाया था।जिसके मुताबिक,स्पेस में वैसे 4600 ऐसे ग्रह हैं, लेकिन नासा के मुताबिक, 2300 ग्रहों पर जाकर रहा जा सकता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You