90 आंतकी मारने के लिए 40 करोड़ डॉलर का धमाका , नुकसान में कौन ?

  • 90 आंतकी मारने के लिए 40 करोड़ डॉलर का धमाका , नुकसान में कौन ?
You Are HereInternational
Sunday, April 16, 2017-12:12 PM

वॉशिंगटनः अमरीका ने 13 अप्रैल 2017 की शाम अफगानिस्तान के नांगरहार पर एक बम  ISIS आतंकवादियों को मारने के लिए गिराया गया। कहा ये गया कि इस हमले में 31 आतंकवादी मारे गए जबकि अफगानिस्तान ने इस बात की पुष्टि की कि इस हमले में 94 आतंकवादी मारे गए। अमरीका ने इस बम के ज़रिए उत्तरी कोरिया को भी चेतावनी देने की कोशिश की। इस एक बम को गिराने में अमरीका ने 40 करोड़ डॉलर से अधिक का खर्चा किया है। 

सवाल ये है कि क्या 50-100 आतंकवादियों को मारने के लिए अमरीका ने इतना शक्तिशाली बम गिराया ? आखिर ये नुकसान किसका है ? अमरीका का कहना है कि उसने ISIS का बड़ा नुकसान किया है, उनकी सुरंगें तबाह कर दी हैं, बहुत से आतंकवादी मार दिए है। लेकिन क्या कुछ आतंकवादियों को मारने के लिए इतने बड़े स्तर पर हुआ खर्च अमरीका की समझदारी है ? 40 करोड़ डॉलर में अस्थाई तौर पर एक छोटे देश की गरीबी मिटाई जा सकती है।अमरीका में ऐसी बहुत सी समस्याएं हैं जिनका समाधान होना बाकी है।

ऐसा नहीं है कि अमरीका के पास आइएस को ख़त्म करने का अन्य कोई उपाय नहीं है लेकिन अफगानिस्तान पर अमरीका का ये हमला उसकी मूर्खता के साथ-साथ उसके दिखावे को उजागर करता है। इतनी बड़ी धनराशि में अमरीका की 14.3 प्रतिशत गरीब जनता का भला हो सकता था। यही नहीं, ट्रंप चाहते तो अमरीका की 4 प्रतिशत से ऊपर की बेरोजगार आबादी के लिए बहुत कुछ कर सकते थे।

ट्रंप के पास अपने ही देश के लिए करने को बहुत कुछ है लेकिन उनका पूरा ध्यान दुनिया में दिखावा करने पर केन्द्रित है। इस तरह से ‘अमरीका ग्रेट अगेन’ हो न हो, लेकिन अमरीका की जनता मूर्ख और बाकी दुनिया परेशान ज़रूर हो रही है।  अमरीका ने ये बम बहुत सोची-समझी रणनीति के तहत गिराया है।. इस बम के गिरने से जितनी तबाही हुई है, उसमें कितने लोग मारे गए और मारे जाने वाले कौन थे इसका कोई अंदाज़ा नहीं लग सकता। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You