US में ट्रंप की हिलेरियस जीत, इतिहास रचने से चूकी हिलेरी

  • US में ट्रंप की हिलेरियस जीत, इतिहास रचने से चूकी हिलेरी
You Are HereAmerica
Wednesday, November 09, 2016-12:59 PM

न्यूयॉर्क : अमरीका में ट्रंप समर्थकों द्वारा दिया गया नारा अबकी बार ट्रंप सरकार नारा सच साबित हो गया और अमरीकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप आज डैमाेक्रेटिक उम्‍मीदवार हिलेरी के साथ कांटे की टक्कर में जीत गए।

PunjabKesari

चुनाव में हिलेरी की हार के बाद निराश उनके समर्थक। 


रिपब्लिकन प्रत्याशी डोनाल्ड ट्रंप ने सभी को चौंकाते हुए एक्ज़िट पोलों के मुताबिक  जीत हासिल कर ली है।  अमरीकी मीडिया की भविष्यवाणी के मुताबिक, अमरीका के 240 साल के इतिहास में प्रथम महिला राष्ट्रपति बनने का सपना देख रहीं  हिलेरी क्लिंटन को ज़ोरदार झटका लगा है और वह इतिहास रचने से चुक गईं।

ट्रंप को विश्वास था कि चुनाव में उनकी ही जीत होगी। उन्होंने यूरोपीय संघ छोड़ने के लिए ब्रिटेन में हुए जनमत संग्रह के चौंकाने वाले परिणाम का हवाला देते हुए कहा था कि उनकी जीत ‘ब्रेग्जिट परिणामों से 50 गुना ज्यादा’ चौंकाने वाली होगी । ट्रंप की यह बात भी सही साबित हो गई। चुनाव जीत कर ट्रंप यू.एस. के सबसे उम्रदराज राष्ट्रपति बन गए हैं। 14 जून 1946  को जन्मे  ट्रंप अब 70 साल के हैं। अभी तक अमरीका में सबसे ज्यादा उम्र में राष्ट्रपति बनने वाले रोनाल्ड रीगन हैं। जब वे राष्ट्रपति बने, उनकी उम्र 69 साल 349 दिन थी।

US चुनाव में  2 भारतीय भी जीते, सीनेट पहुंचकर कमला हैरिस ने रचा इतिहास
 

PunjabKesari

अमरीका चुनाव में 2 भारतीयों ने भी जीत दर्ज की है। भारतीय मूल की कमला ने यूएस सीनेट इलैक्शन में जीत हासिल की है। ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय-अमरीकी बन गई हैं। एक और भारतीय-अमेरिकी डैमोक्रेट राजा कृष्णमूर्ति ने एल्महर्स्ट से पूर्व मेयर और रिपब्लिकन पार्टी के पीटर डिसियान्नी को शिकस्त देकर इलिनोइस से अमेरिकी कांग्रेस का चुनाव जीत लिया। 

27 हजार वोटों से जीते कृष्णमूर्ति
कृष्णमूर्ति ने ट्वीट किया, शुक्रिया... इलिनोइस के 8वें डिस्ट्रिक्ट का कांग्रेस सदस्य बनकर मैं खुद को सम्मानित और अनुगृहित महसूस कर रहा हूं। कृष्णमूर्ति ने अपने विजय भाषण में समर्थकों का शुक्रिया अदा किया। दिलचस्प यह है कि अमरीकी प्रतिनिधि सभा के लिए चुने गए कृष्णमूर्ति ऐसे दूसरे हिंदू-अमरीकी हैं। टैमी डकवर्थ के इलिनोइस की अमेरिकी सीनेट सीट से जीत दर्ज करने के बाद यह सीट खाली हो गई थी और कृष्णमूर्ति तथा डिसियान्नी दोनों ही इस यहां से जीतने के लिए प्रयासरत थे. कृष्णमूर्ति को उनके प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ 54,149 की तुलना में 81,263 वोट मिले।


सीनेट में चुनी जाने वाली छठी अश्वेत बनीं कमला हैरिस 
अमरीकी  चुनाव में जीत दर्ज करने वाली एक और भारतीय कमला हैरिस ने डेमोक्रेट लॉरेटा सानचेज को हराया। 51 वर्षीय हैरिस अमरीकी सीनेट में चुनी जाने वाली छठी अश्वेत हैं, 5वें अश्वेत अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा थे। बीते दो दशकों से भी ज्यादा समय में उच्च सदन में पहुंचने वाली वे पहली अश्वेत महिला हैं। 


 

 

 

 

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You