2 साल की ये बच्ची है असली फाइटर, बनी मिसाल

  • 2 साल की ये बच्ची है असली फाइटर,  बनी मिसाल
You Are HereInternational
Thursday, November 03, 2016-5:01 PM

पेंसिल्‍वेनिया : 6 महीने की उम्र में एक घातक संक्रमण का शिकार हुई बच्ची ऑब्रिएले मार्सिलिओ  के बचने की संभावना मात्र 10 प्रतिशत थी। उसे मैनिंजाइटिस डायग्‍नोज हुआ और उसके बाद उसके दोनों हाथ और पैर काटने पड़े।  लेकिन इस घातक बीमारी से लड़ते हुए अब आ‍ॅब्रिएले प्रोस्‍थेटिक लिम्‍ब्‍स के जरिए अपने पैर पर खड़ी हो पाई है और पहला कदम बढ़ा पाई ।

अमरीका के पेंसिल्‍वेनिया में रहने वाली ऑब्रिएले अब 2 साल की है। सेप्टिक शॉक में जाने के बाद, उसका शरीर बैंगनी हो गया था और डॉक्‍टरों के पास उसके दोनों पैर और बाएं हाथ की अंगुलियां काटने के अलावा कोई चारा नहीं था। मां मॉर्गन (24) को डर था कि अब उसकी बेटी कभी नहीं चल पाएगी लेकिन 2015 में जब उसे प्रोस्‍थेटिक लिम्‍ब्‍स मिले तो बच्‍चे ने चलने का अभ्‍यास शुरू कर दिया।

12 महीने बाद वह अपने पहले कदम रख पाई। मॉर्गन के मुताबिक ' अस्‍पताल में महीनों तक अपने बच्‍चे की दर्द भरी चीख आपको तोड़ कर रख देती है। वह उस दर्द से गुजर चुकी है जो शायद ही लोगों को जीवनभर में महसूस होता हो। वह बहुत खुशमिजाज बच्‍ची है, वह एक फाइटर है और मेरी जिंदगी की प्रेरणा।'

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You