अनुच्छेद 35-ए पर राजनीति न करें फारूख अब्दुल्ला : डा. निर्मल सिंह

You Are HereJammu Kashmir
Sunday, August 13, 2017-12:17 PM

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के उप-मुख्यमंत्री डा. निर्मल सिंह ने कहा कि अनुच्छेद 35-ए का मामला उच्चतम न्यायालय में है, ऐसे में इस मुद्दे पर राजनीति नहीं करनी चाहिए। उन्होंने इस मुद्दे पर राजनीति करने के लिए नैशनल कांफ्रैंस के अध्यक्ष फारूख अब्दुल्ला की निंदा की और उनसे कहा कि वह इस मुद्दे पर सहयोग करें।

 

उप-मुख्यमंत्री ने कहा कि एन.सी.-कांग्रेस अनुच्छेद 35-ए के मुद्दे को अधिक तूल दे रहे हैं, जबकि उन्हें यह समझना चाहिए कि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में है और हमें फैसले का इंतजार करना चाहिए। एक कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत करते हुए डा. निर्मल सिंह ने कहा कि फारूख अब्दुल्ला जैसे व्यक्ति, जो कहते हैं कि पत्थरबाज आंदोलन का हिस्सा हैं, दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्हें इस मामले को सुलझाने में सहयोग करना चाहिए। 

 

सिंह ने कहा कि जहां तक सरकार का रुख है, हम गठबंधन के एजैंडे का अनुसरण कर रहे हैं, जिसमें विशेष रूप से उल्लेख किया गया है कि संवैधानिक मामलों पर यथास्थिति बनाई रखी जाएगी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही सरकार का रुख तय होगा। जम्मू-कश्मीर सरकार संविधान के आधार पर चल रही है और हमें सर्वोच्च न्यायालय पर विश्वास करना चाहिए।

 

उप-मुख्यमंत्री ने की राष्ट्रपति से मुलाकात 

PunjabKesari
उप-मुख्यमंत्री डा. निर्मल सिंह ने राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। उप-मुख्यमंत्री ने कोविंद को कार्यालय संभालने पर बधाई दी। भारत के राष्ट्रपति का पद संभालने के बाद कोविंद के साथ यह उप-मुख्यमंत्री की पहली बैठक थी।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You