Subscribe Now!

आर्थिक तंगी से छुटकारा अौर कार्य में तरक्की हेतु गणेश चतुर्थी पर करें ये उपाय

  • आर्थिक तंगी से छुटकारा अौर कार्य में तरक्की हेतु गणेश चतुर्थी पर करें ये उपाय
You Are HereJyotish
Sunday, September 04, 2016-12:32 PM

श्रीगणेश को विध्नहर्ता कहा जाता है। प्रथम पूज्य गणेश जी अपने भक्तों की परेशानियों को हर लेते हैं। कई बार कड़ी मेहनत करने के पश्चात भी आर्थिक तंगी रहती है। व्यापार में घाटा होता है अौर नौकरी में भी तरक्की नहीं मिलती तो गणेश चतुर्थी पर कुछ सरल उपाय करने से लाभ प्राप्त हो सकता है। कल गणेश चतुर्थी पर इन उपायों को श्रद्धा से करने पर श्रीगणेश अौर मां दूर्गा की कृपा प्राप्त होती है अौर मुश्किलों से छुटकारा मिलता है।

 

* कलौ चंड़ी विनायकौ अर्थात कलयुग में मां दुर्गा अौर गणेश जी शीघ्र सिद्धि प्रदान करते हैं। इनका पूजन करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

 

* गणेश जी के पूजन के पश्चात गरीब को घर में बैठाकर पूर्ण आदर से भोजन करवाकर धन का दान दें।

 

*  गणेशोत्सव के दिनों में सुबह स्नादि कायों से निवृत होकर गणेश जी की पूजा करके उन्हें शुद्ध घी अौर गुड़ का भोग लगाएं। पूजा के पश्चात घी अौर गुड़ दान कर दें।

 

* सुबह शीघ्र उठकर स्नान करने के पश्चात प्रतिदिन मंदिर जाकर मंत्र का जाप करते हुए गणेश जी को दूर्वा की 11 या 21 गांठ अौर मोदक अर्पित करें।


* श्री गणेश जी का सिंदूर से श्रृंगार करें अौर उन्हें जनेऊ अर्पित करें। गणेश जी को मोदक का भोग लगाएं, दूर्वा अर्पित करके गणेश मंत्र का जाप करें।


*  श्री गणेश, सूर्यदेव, मां दूर्गा, भोलेनाथ अौर भगवान विष्णु को पंचदेव कहा जाता है। गणेश चतुर्थी पर इन पंचदेवों का पूजन अवश्य करें।


* पूजा में गणेश जी को लाल रंग, भगवान विष्णु को पीला रेशमी, मां दूर्गा, सूर्यदेव अौर भोलेनाथ को सफेद वस्त्र चढ़ाएं।

 

*  काय़ों में आ रही मुश्किलों को दूर करने के लिए 7 नारियल की माला बनाकर श्रीगणेश को अर्पित करें।

 

* प्रतिदिन श्रीगणेश के सम्मुख शुद्ध घी का दीपक प्रजवलित करें। श्रीगणेश मंत्रों का जाप करें। मंत्रों की संख्या 108 होनी चाहिए। पूजन के पश्चात दूर्वा की 21 गांठ अर्पित करें।

 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You